नई दिल्ली।

लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस पार्टी भारतीय जनता पार्टी पर हमलावर हो गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तीखे हमले करते हुए आज कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 2019 में कांग्रेस की सरकार बनने पर देश के करीब 25 करोड़ लोगों को हर महीने ₹6000 देने का ऐलान किया है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने कहा है कि देश के करीब 25 करोड़ लोग ऐसे हैं, जिनकी आय ₹6000 महीने से भी कम है।

ऐसे लोगों को कांग्रेस की सरकार बनते ही हर महीने न्यूनतम मजदूरी के तौर पर ₹6000 हर महीने उनके खाते में ट्रांसफर किया जाएगा।

इससे केंद्र की सरकार पर हर महीने करीब 30000 करोड़ का भार आएगा। राहुल गांधी ने भारतीय जनता पार्टी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कहा कि केंद्र की सरकार ने बीते 5 साल में देश के अमीर लोगों के साढ़े 3 लाख करोड रुपए से अधिक माफ कर दिया, अगर बीजेपी सरकार ऐसा कर सकती है तो कांग्रेस सरकार गरीबों के लिए यह पैसा दे सकती है।

जिस तरह से राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए कह रहे हैं कि देश के करीब 25 करोड़ लोगों को हर महीने ₹6000 न्यूनतम मजदूरी की तौर पर दिया जाएगा।

तो क्या यह सवाल उठना लाजमी नहीं है कि देश में मोदी सरकार को केवल 5 साल हुई है और यदि कांग्रेस के हमले को सही माना जाए, तो इन्हीं 5 साल में यह 25 करोड़ लोग गरीब हुई हैं।

इसके साथ ही राहुल गांधी ने यह भी कहा है कि जब देश में महात्मा गांधी नेशनल रोजगार गारंटी योजना लागू की गई थी, तब गरीबी के ऊपर पहला प्रहार था, और अब इस योजना के द्वारा देश में गरीबी हटाने के लिए आखरी और पुरजोर हमला कांग्रेस की सरकार के द्वारा किया जाएगा।

दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी ने कांग्रेस के इस हमले का जवाब देते हुए कहा है कि क्या 65 साल में कांग्रेस के द्वारा शासन करने के बाद भी देश में गरीबी नहीं मिटी है, तो फिर इस बात की क्या गारंटी है कि अगर कांग्रेस की सरकार सत्ता में आती है तो देश में रोजगार बढ़ेंगे, किसानों की आय बढ़ेगी और 25 करोड़ लोग, जिनको कांग्रेस गरीब बता रही है वह गरीबी रेखा के ऊपर निकल जाएंगे?