Nationaldunia

जयपुर।
राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की सूरत—ए—हाल जल्द बदलने वाला है। आलाकमान से इसकी हरी झंड़ी मिल चुकी है और कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट एक—दो दिन में ही अपनी नई टीम का ऐलान कर सकते हैं।

हालांकि, इसकी सीरत तब ही नजर आ गई थी, जब केंद्रीय संगठन में बदलाव किया गया था। खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आगे बढ़कर महासचिव का पद छोड़कर एक मैसेज दिया था।

इधर, सचिन पायलट द्वारा प्रदेशाध्यक्ष पद छोड़ने की अटकलों को फिहलाल विराम लग गया है। बताया जा रहा है कि लोकसभा चुनाव तक प्रदेश के मुखिया को नहीं ​बदला जाएगा, जबकि निचले स्तर पर कई बड़े फेरबदल किए जाने तय हैं।

उपाध्यक्ष पद पर बैठे कैबिनेट मंत्रियों और यहां तक कि जयपुर शहर अध्यक्ष की सीट पर चुनाव बाद मंत्री बनने के बाद भी जमे हुए प्रताप सिंह खाचरिसास को भी पद छोड़ना पड़ सकता है।

आपको बता दें कि प्रदेश के करीब एक दर्जन मंत्री संगठन के विभिन्न पदों पर जमे हुए हैं। इनमें से उपाध्यक्ष के पद पर ज्यादा हैं।

कैबिनेट मंत्रियों में विश्वेंद्र सिंह, उदयलाल आंजना, चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा पार्टी उपाध्यक्ष, पर्यटन मंत्री विश्वेन्द्र सिंह भाटी उपाध्यक्ष, मास्टर भंवरलाल पार्टी उपाध्यक्ष, प्रमोद जैन भाया पार्टी उपाध्यक्ष, प्रताप सिंह खाचरियावास जयपुर शहर अध्यक्ष हैं।

जबकि राज्य मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा पार्टी उपाध्यक्ष, टीकाराम जूली अलवर जिला अध्यक्ष, राजेंद्र यादव जयपुर देहात अध्यक्ष, ममता भूपेश बैरवा राष्ट्रीय महामंत्री महिला कांग्रेस, अशोक चांदना प्रदेश अध्यक्ष युवा कांग्रेस हैं।

इन मंत्रियों में से विश्वेन्द्र सिंह, प्रताप सिंह खाचरियावास, गोविंद सिंह डोटासरा, मास्टर भंवरलाल, डॉ रघु शर्मा, ममता भूपेश समेत अधिकांश को सचिन पायलट गुट के माना जाता है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।