29 C
Jaipur
बुधवार, जून 3, 2020

इंडियन आइडल 11 के विजेता नुसरत फतेह अली के भक्त!

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई, 26 फरवरी (आईएएनएस)। इंडियन आइडल 11 के विजेता सनी का सफर काफी संघर्षो से भरा रहा है। पंजाब के बठिंडा में जूते पॉलिश करने वाले सनी को रियलिटी शो प्रतियोगिता जीतने के बाद बॉलीवुड में कई गाना गाने का अवसर मिला है। शो के दौरान उन्होंने ज्यादातर नुसरत फतेह अली खान के गानों का ही चयन किया, इसके अलावा वह खुद को उनका बहुत बड़ा प्रशंसक मानते हैं।
शो को जीतने के बाद सनी ने आईएएनएस से कहा, एक चीज ने मुझे बहुत ज्यादा खुशी दी और वो यह थी कि मेरा नाम उन जैसे दिग्गज गायक के साथ जोड़ा गया। जबकि मैं इसके काबिल नहीं हूं। मैं उनकी तरह नहीं बन सकता, लेकिन मैं उनकी तरह नाम जरूर कमाना चाहता हूं। मैं उनका प्रशंसक नहीं, बल्कि भक्त हूं।

वहीं उनसे पूछे जाने पर कि क्या वह किसी फिल्म के लिए उनके गाने को रीक्रिएट करेंगे? इस पर सनी ने कहा, उनका लोकप्रिय गाना मेरे रश्क-ए-कमर और सानू इक पल चैन न आवे पहले ही रीक्रिएट हो चुके हैं। अगर मुझे कभी ऐसा मौका मिलता है तो मुझे गाना देखना होगा। मैं फिल्म की परिस्थिति देखूंगा और फिर गाने का चयन करूंगा।

–आईएएनएस

( इस खबर को National Dunia टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है। )

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTubeपर फॉलो करें.

- Advertisement -
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिया संपादक .

Latest news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...
- Advertisement -

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं

Related news

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा कोरोनावायरस की टेस्टिंग के साथ इतना खिलवाड़ क्यों हो रहा है?

- टेस्ट ही मुख्य आधार है कोरोनावायरस के उपचार का और अगर टेस्टिंग का सैंपल कलेक्शन ही गलत है तो रिपोर्ट कैसे...

महात्मा गांधी अस्पताल द्वारा किया जा रहा है खेल: जिन डायग्नोस्टिक लैब्स को सैंपल कलेक्ट करने का अधिकार नहीं, वो कोरोनावायरस की टेस्टिंग कर...

- जिन लैब कर्मचारियों को टेस्टिंग का अनुभव नहीं, वह कोरोनावायरस की टेस्ट रिपोर्ट अपने हस्ताक्षर से जारी कर रहे हैं
- Advertisement -