जयपुर।

राजस्थान की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने आज शाम अपना इस्तीफा राज्यपाल को सौंप दिया। प्रदेश में बहुमत प्राप्त नहीं करने के कारण भारतीय जनता पार्टी की सरकार नहीं रही है। कार्यकाल पूरा होना के कारण मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने अपना इस्तीफा दे दिया।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने प्रदेश में अपनी हार स्वीकार करते हुए देर शाम करीब 8:30 बजे राजभवन पहुंचकर राज्यपाल कल्याण सिंह को अपना इस्तीफा सौंप दिया।

संवैधानिक रूप से किसी भी राज्य में सत्तारूढ़ पार्टी के सत्ता में नहीं लौटने पर उसी दिन प्रदेश का मुख्यमंत्री राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप देता है। नया मुख्यमंत्री बनने तक निवर्तमान सीएम ही कार्यवाहक मुख्यमंत्री होते हैं।

मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का इस्तीफा स्वीकार करते हुए राज्यपाल कल्याण सिंह ने उनको नए मुख्यमंत्री के शपथ लेने तक मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालने को कहा है।

गौरतलब है कि राजस्थान में आज विधानसभा चुनाव की मतगणना के बाद भारतीय जनता पार्टी बहुमत से काफी दूर रह गई। कांग्रेस पार्टी ने अपने गठबंधन के साथ करीब 100 सीटें जीतते हुए बहुमत हासिल करने में कामयाबी पाई है।

उल्लेखनीय है कि वसुंधरा राजे ने दो बार राजस्थान की मुख्यमंत्री रहने का गौरव किया है। वसुंधरा राजे ने 2003 से 2008, और 2013 से 2018, यानी आज तक मुख्यमंत्री के रूप में दो बार कार्य किया है।

इसके साथ ही 1998 से 2003 तक, और 2008 से 2013 तक कांग्रेस पार्टी की तरफ से अशोक गहलोत मुख्यमंत्री रहे थे।

वसुंधरा राजे ने पहला कार्यकाल 120 विधयकों के साथ पूरा किया, तो दूसरे कार्यकाल में 163 सीटों के साथ प्रचंड जीत के साथ सत्ता सुख भोगा है।

इसी तरह से कांग्रेस पार्टी ने 1998 के दौरान 153 सीटें जीतीं थीं। जबकि 2008 में 96 पर जीतकर 6 बसपा विधायकों को शामिल कर सरकार बनाई थी।