28 C
Jaipur
बुधवार, सितम्बर 23, 2020

गहराते कोरोना संक्रमण के साये में चल रही फैक्ट्रियां, डर का माहौल

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 13 सितम्बर (आईएएनएस)। कोरोना वायरस संक्रमण के गहराते प्रकोप के साये में देश के प्रमुख औद्योगिक नगरों में फैक्ट्रियां चल रही हैं, लेकिन मजदूरों से लेकर मालिकों में डर का माहौल बना हुआ है। हालांकि फैक्ट्रियों में एहतियाती कदमों के तौर पर सुरक्षा के इंतजामात का खास ध्यान रखा जा रहा है।
देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले बढ़कर 47 लाख के पार चले गए हैं और दुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना के मामले वाले देशों की फेहरिस्त में अमेरिका के बाद भारत दूसरे स्थान पर है जहां रोजाना 90,000 से एक लाख के बीच संक्रमण के नये मामले आ रहे हैं।

लिहाजा, कल-कारखाने खुलने के बाद भी कोरोना का खौफ बना हुआ है। सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम क्षेत्र के कोराबारियों ने बताया कि फैक्ट्रियां चल रही हैं, लेकिन कोरोना को लेकर डर का माहौल बना हुआ है।

जानकार बताते हैं कि देश में कोरोना संक्रमण की जांच की सुविधा बढ़ने के साथ नये मामलों की संख्या में इजाफा हो रहा है।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली स्थित मायापुरी इंडस्ट्रियल वेलफेयर एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी नीरज सहगल ने बताया, कोरोना संक्रमण को लेकर डर का माहौल जरूर है लेकिन इस डर के साये में भी फैक्ट्रियों का कामकाज चल रहा है हालांकि एहतियाती कदम के तौर पर सुरक्षा के प्रबंधों का खास ख्याल रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि मायापुरी औद्योगिक क्षेत्र में भी वायरस संक्रमितों के परीक्षण की व्यवस्था की गई है।

औद्योगिक संगठनों के मुताबिक कोरोना काल में देशव्यापी लॉकडाउन के दौरान फैक्टरियां बंद होने के साथ-साथ मांग और आपूर्ति श्रंखला भंग होने से एमएसएमई सेक्टर काफी प्रभावित हुआ है, इसलिए नुकसान को कम करने के लिए कारोबारी जद्दोजहद कर रहे हैं।

ओखला चैंबर ऑफ इंडस्ट्रीज के चेयरमैन अरुण पोपली ने बताया, छोटे-छोटे उद्योग की आर्थिक सेहत काफी खराब है और मौजूदा दौर उनके सामने अस्तित्व में बने रहने की चुनौती है, लिहाजा कोरोना का प्रकोप गहराने के बावजूद फैक्ट्रियां डिमांड व ऑर्डर के मुताबिक चल रही हैं लेकिन डर का माहौल बना हुआ है।

हालांकि कोरोना के असर के चलते गार्मेंट व अपेरल सेक्टर की मांग काफी कमजोर बनी हुई है। गांधीनगर स्थित रामनगर रेडिमेड गार्मेट मर्चेट एसोसिएशन के प्रेसीडेंट एस.के. गोयल ने बताया, कोरोना के प्रकोप गहराने से बाहर के व्यापारी अभी नहीं आ रहे हैं जिससे त्योहारी सीजन निकट आने के बावजूद फैक्ट्रियां में कामकाज काफी कम है।

कोरोना काल मे अस्तित्व में आए औद्योगिक सगठन, वॉइस ऑफ एमएसएमई एंड ट्रैडर्स के सदस्य अश्विनी सचदेवा ने बताया, एमएसएमई सेक्टर की आर्थिक स्थिति काफी दयनीय है हालांकि सरकार की ओर से सेक्टर की मदद के लिए उठाए कदम सराहनीय हैं, मगर मौजूदा दौर में तो फिक्स्ड एक्सपेंडिचर निकालना भी मुश्किल हो रहा है। इस बीच कोरोना के मामले बढ़ने से और भय का माहौल बन गया है।

फैक्टरियों के ये हालात न सिर्फ दिल्ली और आसपास के इलाके में हैं बल्कि पूरे देश के औद्योगिक क्षेत्र में कोरोना का खौफ बना हुआ है। ऑल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया, कोरोना के मामले देश में बढ़ने से कामकाज पर असर पड़ने की आशंका बनी हुई। दाल मिलें भी एमएसएमई सेक्टर के अंतर्गत आती हैं। अभी तक दाल मिलें अपनी क्षमता का 60 फीसदी से ज्यादा का उपयोग नहीं कर रही हैं।

–आईएएनएस

पीएमजे/आरएचए

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
गहराते कोरोना संक्रमण के साये में चल रही फैक्ट्रियां, डर का माहौल 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

कॉनमेबोल विश्व कप क्वालीफायर्स के पहले मैच में पराग्वे का सामना पेरू से

असुनसियोन, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। अगले महीने होने वाले 2022 फीफा विश्व कप क्वालीफायर्स में दक्षिण अमेरिकी जोन के पहले मुकाबले में पराग्वे का सामना...
- Advertisement -

दिल्ली के निजी अस्पतालों में 80 फीसदी आईसीयू बेड रिजर्व रखने के आदेश पर रोक

नई दिल्ली, 22 सितंबर (आईएएनएस)। दिल्ली हाईकोर्ट ने मंगलवार को दिल्ली सरकार के उस फैसले पर रोक लगा दी, जिसमें अरविंद केजरीवाल की...

मंसूर अली खान पटौदी की 9वीं पुण्यतिथि पर परिवार ने किया उन्हें याद

मुंबई, 22 सितंबर (आईएएनएस)। भारत के मशहूर क्रिकेटर नवाब मंसूर अली खान पटौदी की 9वीं पुण्यतिथि पर उनके परिवार ने उन्हें याद करने के...

टाटा से अपनी हिस्सेदारी लेकर अलग होना चाहती है यह 70 साल पुरानी कम्पनी

नई दिल्ली। टाटा समूह का नाम आते ही देश के प्रत्येक व्यक्ति में ऐसे उद्योगपति कंपनी के लिए सम्मान की भावना निकलती...

Related news

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

आईपीएल-13 : बेंगलोर ने हैदराबाद को 10 रनों से दी शिकस्त

दुबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने सोमवार को दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में खेले गए आईपीएल-13 के मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को 10...

हनुमान बेनीवाल ने स्थानीय लोगों को नौकरी देने के लिए संसद में उठाई यह मांग

-आरोप-प्रत्यारोप से उपर उठकर मजदूर हितों पर हो सामूहिक चिंतन, 80 प्रतिशत स्थानीय लोगों को रोज़गार देने का बनाया जाए प्रावधान -...
- Advertisement -