32 C
Jaipur
मंगलवार, सितम्बर 22, 2020

सार्वजनिक होने पर बढ़ जाता है साइबर हमले को लेकर कंपनियों की प्रतिष्ठा से जुड़ा जोखिम: मूडीज

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 11 सितम्बर (आईएएनएस)। मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने शुक्रवार को कहा कि साइबर हमले से वैश्विक स्तर पर कई कंपनियों की प्रतिष्ठा से जुड़ा जोखिम बढ़ रहा है, क्योंकि ऐसे प्रकरण अधिक प्रचारित हो गए हैं।
इन प्रकरणों (घटनाओं) में कंपनी के आकार, क्षेत्र और ग्राहकों के साथ इनके संबंधों के आधार पर क्रेडिट जोखिमों की अलग-अलग डिग्री है।

मूडीज ने एक रिपोर्ट में कहा, जिन कंपनियों के ग्राहक आसानी से किसी प्रतियोगी के पास स्विच (दूसरे के पास चले जाना) कर सकते हैं या जिनकी व्यावसायिक गतिविधियां अधिक भरोसेमंद हैं, वे साइबर जोखिमों से उपजे प्रतिष्ठा से जुड़े जोखिम के प्रति अधिक अनाश्रित (इक्स्पोज्ड) हैं।

एजेंसी ने कहा है कि साइबर जोखिम लगातार बढ़ रहे हैं और साइबर अपराधी भी हमला करने वाले संगठनों की तेजी से पहचान कर रहे हैं।

एजेंसी ने कहा, अतीत में कई कंपनियों ने साइबर घटनाओं का खुलासा करने से परहेज किया है, क्योंकि उन्हें लगता है कि इस तरह के खुलासे आगे के हमलों को आमंत्रित कर सकते हैं या उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा सकते हैं। हालांकि, साइबर अपराधी अब सार्वजनिक रूप से उन कंपनियों की पहचान कर रहे हैं, जिन पर वह हमला करते हैं और जब भी डेटा से कोई समझौता किया जाता है तो नए कानूनों और विनियमों के तहत कंपनियों को ग्राहकों और हितधारकों को सूचित करने की आवश्यकता होती है।

मूडीज ने कहा, इस खुलासे से ग्राहकों को कंपनी के साइबर ट्रैक रिकॉर्ड के बारे में और उनके व्यापार निर्णयों के बारे में अधिक जानकारी हासिल करने की अनुमति मिलती है।

रिपोर्ट के अनुसार, प्रतिष्ठा को पहुंचने वाली क्षति अधिक नुकसानदायक है और यह किसी भी कंपनी के राजस्व को कमजोर कर सकती है।

रिपोर्ट में कहा गया है, क्षतिग्रस्त प्रतिष्ठा के परिणामस्वरूप पूंजी की लागत (कोस्ट ऑफ कैपिटल) में वृद्धि, नियामक लागत और प्रतिभा को आकर्षित करने और काम पर रखने के लिए अतिरिक्त लागत हो सकती है। क्षतिग्रस्त प्रतिष्ठा वाली कंपनियां ग्राहकों, निवेशकों और अन्य समकक्षों का समर्थन भी खो सकती हैं, जिससे राजस्व में कमी हो सकती है।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है इन खतरों के लेकर कुछ कंपनियों के लिए वित्तीय नतीजे अलग-अलग हो सकते हैं।

एजेंसी ने हेल्थकेयर और वित्तीय संस्थानों को साइबर हमलों को लेकर विशेष रूप से संवेदनशील बताया गया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि हाल के महीनों में बढ़ते खुलासों का सबसे बड़ा कारण आपराधिक व्यवहार में बदलाव है।

–आईएएनएस

एकेके/जेएनएा

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
सार्वजनिक होने पर बढ़ जाता है साइबर हमले को लेकर कंपनियों की प्रतिष्ठा से जुड़ा जोखिम: मूडीज 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

दिल्ली हिंसा चार्जशीट में खुलासा : विरोध प्रदर्शन के प्रबंधन के लिए 1 करोड़ रुपये खर्च किए गए

नई दिल्ली, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। दिल्ली हिंसा मामले में कथित साजिश के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा हाल ही में दायर...
- Advertisement -

महिला क्रिकेट : इंग्लैंड ने पहले टी-20 में विंडीज को हराया

लंदन, 22 सितंबर (आईएएनएस)। टैमी बेयुमोंट के अर्धशतक की बदौलत इंग्लैंड महिला क्रिकेट टीम ने डबीर्शायर क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए पहले टी-20 मैच...

चहल ने हमारे लिए मैच बदला : विराट कोहली

दुबई, 22 सितंबर (आईएएनएस)। रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के कप्तान विराट कोहली ने आईपीएल-13 के अपने पहले मैच में सनराइजर्स हैदराबाद को मात देने के...

पाक से निकलने वाले आंतकवाद से निपटने का संयुक्त राष्ट्र का एजेंडा पूरा होना बाकी : भारत

संयुक्त राष्ट्र, 22 सितम्बर (आईएएनएस)। भारत ने कहा है कि संयुक्त राष्ट्र का अगर कोई अधूरा एजेंडा है तो वह है पाकिस्तान से निकलने...

Related news

सचिन पायलट को फंसाने चले थे, अशोक गहलोत खुद आये लपेटे में

भोपाल/जयपुर। मध्य प्रदेश की 28 सीटों पर होने वाले उपचुनाव को लेकर राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के पूर्व...

प्रधान पिंकी चौधरी की अशोक को छोड़ नए प्रेमी के साथ भागने की अफवाह?

बाड़मेर। जिले के समदड़ी पंचायत समिति क्षेत्र से प्रधान पिंकी चौधरी के 1 महीने पहले अपने प्रेमी अशोक चौधरी के साथ भागने...

आईपीएल-13 : कोहली की बेंगलोर के सामने वार्नर की सनराइजर्स

दुबई, 21 सितंबर (आईएएनएस/ग्लोफैंस)। इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 13वें सीजन में सोमवार को दुबई इंटरनेशनल क्रिकेट स्टेडियम में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर का सामना...

भारत में 18 से 24 वर्ष की 37% महिलाएं रखती हैं लंबे समय तक सैक्स सम्बंध

-भारत में 19% महिलाओं को स्मार्टफोन पर रहती हैं पार्टनर की तलाश, देश की 62% महिलाएं कर रहीं ये काम।
- Advertisement -