28 C
Jaipur
शनिवार, जुलाई 4, 2020

विदेशी निवेश का केंद्र बना रहेगा चीन

- Advertisement -
- Advertisement -

बीजिंग, 26 जून (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी के दौर में समूची दुनिया पर आर्थिक संकट छाया हुआ है। जैसे-जैसे वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है, वैसे-वैसे विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाओं के चरमराने की आशंका तेज हो रही है।
विश्व की प्रमुख वित्तीय व रेटिंग एजेंसियां इसको लेकर पहले ही आगाह कर चुकी हैं। ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय जगत को मिल-जुलकर कोरोना जैसी जानलेवा महामारी से निपटना होगा।

जैसा कि हम जानते हैं कि चीन शुरुआत में इस वायरस से सबसे अधिक प्रभावित रहा। हालांकि चीन सरकार व संबंधित विभागों की त्वरित कार्रवाई से इस स्वास्थ्य आपदा पर बहुत हद तक काबू कर लिया गया। लेकिन पिछले कुछ दिनों से बीजिंग आदि शहरों में संक्रमण के नए मामले सामने आए हैं, जो कि पूरे विश्व के लिए चिंता का विषय है। यह दर्शाता है कि वायरस की दूसरी लहर का खतरा अभी टला नहीं है।

इस सबके बीच चीन आर्थिक मोर्चे पर हुए नुकसान से उबरने की कोशिश में लगा हुआ है। देश में लगभग हर क्षेत्र में उत्पादन बहाल हो चुका है। इसके साथ ही अन्य देशों का ध्यान भी चीन की ओर केंद्रित हुआ है। चीन बार-बार जोर देकर कहता रहा है कि वह खुलेपन का हिमायती है। वह लगातार विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए कदम उठाता रहा है। इसी कड़ी में चीन की वित्तीय राजधानी शंघाई ने विदेशी निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठाया है। इसके तहत चीन में निवेश की इच्छुक कंपनियों के कर और शुल्क में कटौती करने का फैसला किया गया है। यही वजह है कि महामारी के संकट के दौरान भी विश्व के प्रमुख वित्तीय संस्थानों ने चीन में अधिक निवेश करने का मन बनाया है। खबर है कि शंघाई के लूच्याच्वी फाइनेंशियल सिटी में फ्रांस के पेरिस बैंक ने 38 करोड़ युआन का अतिरिक्त निवेश किया है। बैंक के मुताबिक उनकी कंपनी को हुए अतिरिक्त मुनाफे को पूंजी निवेश के रूप में लगाया गया है।

वहीं जर्मनी की एक जानी-मानी वाहन निर्माता कंपनी को इस माध्यम से चीन में और अधिक निवेश करने का मौका मिला है। कंपनी के अधिकारियों का कहना है कि चीन सरकार ने विदेशी कंपनियों के लिए शानदार बिजनेस माहौल प्रदान किया है। यही वजह है कंपनी आने वाले समय में चीन में अपनी जड़ें और गहरी करने की सोच रही है।

बताया जाता है कि इस साल की पहली तिमाही में शंघाई में लगभग 4.6 अरब डॉलर का पूंजी निवेश हुआ है, जो पिछले साल की इसी अवधि से 4.5 फीसदी ज्यादा है। इतना ही नहीं इस दौरान विभिन्न कारोबारों ने चीन में अपनी पहुंच को और मजबूत करने का निर्णय किया। जिससे यह बात साबित होती है कि चीन को लेकर विदेशी कंपनियों का मोह भंग नहीं हुआ है।

(-चाइना मीडिया ग्रुप, संवाददाता। साभार—चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

— आईएएनएस

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
विदेशी निवेश का केंद्र बना रहेगा चीन 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

टमाटर हुआ लाल, दिल्ली में 70 रुपये किलो हुआ भाव (लीड-1, संशोधित)

नई दिल्ली, 3 जुलाई (आईएएनएस)। बरसात का सीजन शुरू होने के साथ टमाटर फिर लाल हो गया है। देश की राजधानी दिल्ली और आसपास...
- Advertisement -

बोर्नमाउथ के साथ मैच से पहले सोल्सजाएर ने खिलाड़ियों को चेताया

मैनचेस्टर, 3 जुलाई (आईएएनएस)। इंग्लिश प्रीमियर लीग (ईपीएल) क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड के कोच ओले गनर सोल्सजाएर ने क्लब के शानदार फॉर्म के बावजूद अगले...

जेनिफर का खत्म हुआ सोशल मीडिया डिटॉक्स

मुंबई, 3 जुलाई (आईएएनएस)। लगभग एक महीने तक के लिए सोशल मीडिया से दूर रहने के बाद टेलीविजन की जानी-मानी अभिनेत्री जेनिफर विंगेट ने...

शिवराज सरकार के 100 दिन पर भाजपा ने वर्चुअल रैली की

भोपाल 3 जुलाई (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाली सरकार के 100 दिन पूरे होने को भाजपा ने सेवा, सहयोग, सुधार...

Related news

3 माह से वेतन नहीं, सैंकड़ों कर्मचारियों की कोरोनाकाल में भूखे मरने की नौबत आई

-वेतन नहीं मिला तो कर्मचारी पहुंचे न्यायालय की शरणजयपुर। कोरोना संक्रमण काल के दौरान भी काम कर रहे...

2 साल 2 माह के मुख्य सचिव डीबी गुप्ता को राजस्थान सरकार ने आधी रात क्यों हटाया?

जयपुर राजस्थान सरकार ने गुरुवार आधी रात राज्य की ब्यूरोक्रेसी में बड़ा बदलाव करते हुए भारतीय प्रशासनिक सेवा के...

मोदी चीन के फ्रंट पर, इधर डॉ. पूनियां कोरोना वॉरियर के फ्रंट पर पहुंचे

जयपुर ऐसा लग रहा है जैसे 24 में 18 घन्टे काम कर दुनिया को चौंकाने वाले नरेंद्र मोदी की...

वसुंधरा से दूरियां, डॉ. सतीश पूनियां से नजदीकियां, आखिर क्या मंत्र है राठौड़ का?

जयपुर।राजस्थान विधानसभा में उप नेता प्रतिपक्ष और पिछली वसुंधरा राजे सरकार में पंचायती राज मंत्री रहे चूरू के विधायक राजेंद्र सिंह राठौड़...
- Advertisement -