अनुभव करते हुए सीखने को मुख्य बिंदू बनाने रहा जोर

-भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी ने ईडीआईआई – अहमदाबाद के सहयोग से उद्यमिता जागरूकता शिविर का आयोजन किया

jaipur business news

भारत में केवल कौशल आधारित कार्यक्रमों की पेशकश करने के लिए मशहूर भारतीय स्किल डेवलपमेंट यूनिवर्सिटी ने भारत सरकार के उद्यमिता विकास संस्थान के सहयोग से एक ‘उद्यमिता जागरूकता शिविर’ आयोजित किया।

डीएसटी-एनआईएमएटी प्रोजेक्ट के तहत एंटरप्रेन्योरशिप डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (ईडीआईआई) शिविर का आयोजन उद्यमशीलता के अनुभवों पर चर्चा करने और अनुभवजन्य लर्निंग के माध्यम से उद्यमियों के लिए अवसरों पर चर्चा करने के उद्देश्य से किया गया था।

बीएसडीयू विभिन्न कौशल क्षेत्रों में कौशल प्रमाणपत्र, डिप्लोमा, एडवांस डिप्लोमा, बैचलर ऑफ वोकेशन (बी.वोक), मास्टर ऑफ वोकेशन (एम.वोक) और पीएचडी प्रदान करता है।

इस कार्यक्रम की मेजबानी बीएसडीयू ने की और इस दौरान उपस्थित फैकल्टी सदस्यों और गणमान्य व्यक्तियों में राजस्थान सरकार में तकनीकी और उच्च शिक्षा सचिव शुचि शर्मा, आईएएस (राजस्थान 2002) जयपुर एवं गर्वंमेट वुमन पॉलिटेक्निक जयपुर में सौंदर्य विभाग की वरिष्ठ व्याख्याता डॉ. लवीना मित्तल शामिल थीं।

बीएसडीयू के प्रो-चांसलर ब्रिगेडियर सुरजीतसिंह पाब्ला ने इस अवसर पर कहा, ’विश्वविद्यालय परिसर में इस तरह की चर्चाओं की मेजबानी करना एक शानदार अनुभव है।

’एंटरप्रेन्योरशिप अवेयरनैस कैम्प की पूरी अवधारणा को स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल्स से छात्रों को सर्वश्रेष्ठ अनुभवात्मक सीखने की पेशकश करने के लिए तैयार और परिकल्पित किया गया था। बीएसडीयू के मॉडल को स्विस ड्यूल सिस्टम ऑफ ट्रेनिंग पर डिजाइन किया गया है, जहां ’ऑन द जॉब ट्रेनिंग’ पर अधिक ध्यान दिया जाता है, न कि केवल सैद्धांतिक ज्ञान पर जोर दिया जाता है।

हम यह उल्लेख करते हुए गर्व महसूस करते हैं कि हम एकमात्र विश्वविद्यालय हैं, जिसके मॉडल को न केवल उद्योग भागीदारों बल्कि सरकार ने भी बहुत सराहा है।’

यह भी पढ़ें :  भारत ने चीन को दिया करारा झटका, कोविड-19 के बीच ड्रैगन की अर्थव्यवस्था पर संकट

कार्यक्रम में विवेक बसंल, मास्टर कार्ड, लंदन जैसे उद्योग के दिग्गज लोग भी शामिल हुए, उन्होंने यूके बेस्ड एजुकेशन सिस्टम के आधार पर एक्सपेरिमेंटल शेयरिंग के माध्यम से उद्यमियों के लिए अवसरों पर चर्चा की वहीं सुश्री पूजा जैन कासलीवाल, एचआर एक्सपर्ट, भोपाल ने उद्यमियों के लिए मानव संसाधनों के महत्व का खुलासा किया।

मास्टर कार्ड, लंदन के विवेक बसंल ने कहा, ’इस विश्वविद्यालय में दाखिल लेने वाले छात्रों के लिए पूरा प्रशिक्षण ज्ञानवर्धक है। इस एकमात्र कौशल आधारित या ’व्यावसायिक विद्यालय्य के पाठ्यक्रम को भारतीय उद्योग की आवश्यकताओं के अनुरूप उचित संशोधनों के साथ अपनाया गया है।

स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल, बीएसडीयू द्वारा स्थापित एक नया स्कूल है, जो शैक्षणिक सत्र 2018-19 से लागू हुआ है। उद्यमिता कौशल क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के संबंधित कौशल क्षेत्रों में कौशल शिक्षा के लिए बहुत बड़ा स्कोप है।

बीएसडीयू के अन्य सभी कार्यक्रमों की तरह, स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल में भी कई प्रवेश और निकास विकल्प होंगे।’

इस आयोजन का उद्घाटन अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन- ग्लोबल इनोवेशन इन इंजीनियरिंग एंड मैनेजमेंट 17-19 अप्रैल, 2020 के लिए एक पोस्टर प्रस्तुति के साथ किया गया। इस अवसर पर बीएसडीयू के वाइस चांसलर अचिंत्य चौधरी, रजिस्ट्रार-ब्रिगे. (डॉ.) एस एन मिश्रा, डॉ. रवि कुमार गोयल-डायरेक्टर एडमिशन सहित स्कूल ऑफ एंटरप्रेन्योरशिप स्किल्स के प्रिंसिपल और एसईएस के अन्य फैकल्टी मेम्बर्स उपस्थित थे।

बीएसडीयू को 2017 के राजस्थान गवर्मेंट एक्ट नं. 3 (बीएसडीयू एक्ट) के तहत स्टेट प्राइवेट यूनिवर्सिटी का दर्जा दिया गया है।