मोदी सरकार का बड़ा फैसला, महंगी होगी विदेशों से आने वाली चीजें

भाजपा केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक शुरू, मोदी पहुंचे

नरेंद्र मोदी सरकार ने मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने के लिए विदेशों से आने वाली समस्त वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाने का फैसला कर लिया है।

बताया जा रहा है कि इससे विदेशों से आयातित वस्तुएं महंगी होगी और देश में निर्मित वस्तुओं के उत्पादन में वृद्धि होगी।

जानकारी के मुताबिक 2018 2019 में विदेशों से आयात होने वाले खिलौने 30.2 करोड डॉलर के खरीदे गए थे। मेक इन इंडिया को बढ़ावा देने और विनिर्माण में वृद्धि करने के लिए केंद्र सरकार बजट में इसका ऐलान करेगी।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आगामी बजट में रबड़, फर्नीचरज़ फुटवेयर, कागज से निर्मित खिलौनों पर आयात शुल्क बढ़ाने का ऐलान कर सकती हैं।

आपको बता दें कि भारत विदेशों से बड़ी मात्रा में फुटवेयर आयात करता है। इस पर आयात शुल्क बढ़ाने के कारण न केवल देश में प्रतिस्पर्धा होगी, बल्कि मेक इन इंडिया को भी बढ़ावा मिलेगा।

केंद्रीय वाणिज्य मंत्रालय के सूत्रों का दावा है कि 300 से अधिक प्रोडक्ट्स पर आयात शुल्क में बेसिक ड्यूटी में वृद्धि की जा सकती है। जिसमें कोटेड पेपर, फर्नीचर, केमिकल्स, रबड़ और पेपर बोर्ड भी शामिल हैं। इसके अलावा मेटल, लकड़ी और प्लास्टिक खिलौनों पर भी मंत्रालय ने आया सुर बढ़ाने का सुझाव दिया है।

जिन वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ाने का प्रस्ताव दिया गया है, वह इस प्रकार है। रबड़ के न्यूमेटिक टायर 10 से 15% 40%, फुटवियर से जुड़े उत्पाद 25% से 35%, लकड़ी मेटल प्लास्टिक खिलौने 20% से 100%, लकड़ी के फर्नीचर 20% से 30%, कोटेड हैंड मेड पेपर व पेपर बोर्ड 10% से बढ़ाकर 20% किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :  BSNL दे रहा है सबसे Best ऑफर: केवल 4.65 रुपए में चाहो जितनी बात और 4GB से ज्यादा नेट डेटा