अदाणी ट्रांसमिशन ने एशिया-पैसिफिक इंडियन डील ऑफ द ईयर अवार्ड जीता

एटीएल को उसके 700 मिलियन अमरीकी डॉलर के रिवॉल्विंग प्रोजेक्ट के वित्तपोषण लेनदेन के लिए पीएफआई ने मान्यता प्रदान की

सार-संक्षेप
• अवार्ड समग्र पूंजी प्रबंधन कार्यक्रम और संबद्ध प्लेटफॉर्म इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंसिंग फ्रेमवर्क को मान्यता प्रदान किया जिसके जरिये एटीएल ने एशिया के सबसे बड़े रिवॉल्विंगप्रोजेक्ट वित्तपोषण ट्रांजैक्शंस में से एक लेनदेन के लिए 700 मिलियन अमरीकी डॉलर जुटाए।

• यह अवार्ड मौजूदा घरेलू के साथ-साथ वैश्विक सार्वजनिक और निजी ऋण पूंजी बाजार निर्गमों के अलावा अंतरराष्ट्रीय बैंकिंग बाजार के माध्यम से समग्र लिक्विडिटी (नकदी) पूल को बढ़ाने के लिए एटीएल की रणनीति को मजबूती प्रदान करता है

• यह अवार्ड एटीएल की समग्र विकास योजना को मान्यता देता है और इसे 2022 तक 20,000 सर्किट किमी ट्रांसमिशन लाइनों के अपने लक्ष्य के करीब पहुंचाता है।

अहमदाबाद। विविधतापूर्ण अदाणीग्रुप की पारेषण (ट्रांसमिशन) और वितरण शाखा, अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (एटीएल) ने प्रोजेक्ट फाइनेंस इंटरनेशनल (पीएफआई) से एशिया-पैसिफिक इंडियन डील ऑफ द ईयर का अवार्ड जीता है।

यह अवार्ड 700 मिलियन अमरीकी डॉलर के रिवॉल्विंगप्रोजेक्ट फाइनेंसिंग फैसिलिटी के लिए एटीएल को मान्यता प्रदान करता है, जिसे भारत में पहली बार ग्रीनफील्ड पारेषण परियोजनाओं के वित्तपोषण के लिए फ्रेमवर्क समझौते के तहत लागू किया गया है।

परियोजना वित्त रिपोर्टिंग पर केंद्रित विश्व स्तर पर प्रसिद्ध प्रकाशन पीएफआई ने फैसिलिटी के इनोवेटिव संरचना को मान्यता दी है जिसकी कुछ खास विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

• लंबी अवधि के लिए (फुल्ली ड्रॉन आधार पर) 1.1 बिलियन अमरीकी डालर के कैपेक्स कार्यक्रम के लिए सहमत सिद्धांतों के प्लेटफार्म इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंसिंग फ्रेमवर्क का वित्तपोषण, जो कुशल ग्रिड अवसंरचना कार्यान्वयन के माध्यम से अक्षय ऊर्जा के इवैकुएशन एवं पेनेटरेशन का समर्थन करेगा
• अलग-अलग समय पर निर्माण की सुविधा के लिए अद्वितीय ड्रॉडाउन और पुनर्भुगतान
• बैंक की पुनर्चक्रण आवश्यकता को पूरा करने वाली गो-टू-मार्केट सुविधा के जरिये एम्बेडेड पूंजी बाजार निर्गम

यह भी पढ़ें :  प्राणवायु पर GST क्यों? सबसे बड़ा सवाल: ऑक्सीजन कंसंट्रेटर पर 12% और ऑक्सीजन प्लांट उपकरणों पर 18% टैक्स क्यों?

श्री अनिल सरदाना, एमडी एवं सीईओ, एटीएल ने कहा कि “यह परियोजना वित्तपोषण सौदा क्षेत्र के लिए अद्वितीय है और पारेषण क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय बैंकों द्वारा स्वीकृत अपनी तरह का पहला है। यह उत्साहजनक है कि इसे पीएफआई से यह मान्यता मिली है।

यह फैसिलिटी और विभिन्न अंतरराष्ट्रीय बैंकों के साथ स्थापित संबंध एटीएल की समग्र पूंजी प्रबंधन योजना के प्रमुख तत्व हैं और विकास संबंधी एटीएल की आकांक्षाओं को पूरी तरह से वित्तपोषित करने के लिए महत्वपूर्ण हैं।

प्लेटफॉर्म इंफ्रास्ट्रक्चर फाइनेंसिंग फ्रेमवर्क एटीएल के कैपेक्स प्रोग्राम को बैंकों से पूंजी आवंटन के साथ सबसे कुशल तरीके से जोड़ता है ताकि समान विकास पर केंद्रित हमारे पूंजी प्रबंधन दर्शन के जरिये व्यवस्थित समग्र पूंजी प्रबंधन को सुनिश्चित किया जा सके।”

पीएफआई के बारे में: प्रोजेक्ट फाइनेंस इंटरनेशनल (पीएफआई) पिछले 25 वर्षों से परियोजना वित्तपोषण रिपोर्टिंग में सबसे आगे है। यह परिवहन, बिजली, तेल और गैस, बुनियादी ढांचे और खनन सहित सभी प्रमुख क्षेत्रों को समेटते हुए उद्योग की सेवा के लिए सबसे व्यापक और आधिकारिक प्रकाशन है।

अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड के बारे में
अदाणी ट्रांसमिशन लिमिटेड (एटीएल) भारत के सबसे बड़े व्यापारिक समूहों में से एक, अदाणी ग्रुप की पारेषण एवं वितरण शाखा है।

एटीएलदेश की सबसे बड़ी प्राइवेट ट्रांसमिशन कंपनी है, जिसका संचयी पारेषण नेटवर्क 18,336 सीकेटी किलोमीटर है, जिसमें से 14,131 सीकेटी किलोमीटर परिचालन अवस्था में है और 4,205 सीकेटी किलोमीटर निर्माण के विभिन्न चरणों में है। एटीएलमुम्बई में लगभग 3 मिलियन से अधिक ग्राहकों को सेवा देने वाला बितरण व्यवसाय भी परिचालित करता है।

आने वाले वर्षों में, ऊर्जा के मामले मेंभारत की चौगुनी जरूरत को देखते हुए, एटीएल मजबूत और भरोसेमंद पॉवर पारेषण नेटवर्क बनाने के लिए, और खुदरा ग्राहकों की सेवा करने तथा 2022 तक ‘सबके लिए बिजली’ का लक्ष्य हासिल करने की दिशा में पूरी सक्रियता के साथ काम करने के लिए तैयार है।

यह भी पढ़ें :  मोदी सरकार ने बढ़ाई 16 तरह की फसलों पर एमएसपी, देखिए किस फसल पर कितनी एमएसपी बढ़ी है