—पेपरलैस बनने की ओर राजस्थान विधानसभा, बचेंगे 25 लाख से ज्यादा पेज
जयपुर।
राजस्थान विधानसभा जल्द ही पेपरलैस हो सकती है। विधानसभाध्यक्ष सीपी जोशी की पहल पर राज्य सरकार ने पहली बार बजट की 6000 कॉपियां बांटने के बजाए पैन ड्राइव में वितरित किया जाएगा।

सरकार बजट के बाद हर विधायक को बजट की एक कॉपी देती है, जिसमें कम से कम 6000 पेज होते हैं। ऐसे में कई बार बजट की कॉपी केवल रद्दी की टोकरी में चली जाती है।

मीडिया को दिए जाने वाले बजट की कॉपी भी अब पैन ड्राइव में दिया जाएगा, जिससे 200 विधायकों और करीब इतनी ही मीडिया कॉपी को पैन ड्राइव मिलने से करीब 25 लाख पेज की बचत होगी।

गौरतलब है कि 27 जून से राजस्थान विधानसभा का बजट सत्र शुरू होने वाला है। इससे पहले मार्च में सरकार ने चार माह का अंतरिम बजट पेश किया था।

अशोक गहलोत सरकार का यह पहला पूरा बजट है। इसी सत्र में सरकार राइट टू हैल्थ का बिल भी पास करवा सकती है। इसके साथ ही कई छोटे—मोटे बिल पास होंगे, जिनमें पत्रकार सुरक्षा बिल भी हो सकता है।