alwar thanagaji gang rape

जयपुर।
अलवर के थानागाजी में दिल दहला देने वाली बीते माह की 26 तारीख को गैंगरेप की जो घटना घटी थी, उसमें चौंकाने वाला मामला सामने आया है।

इंसानियत को तार तार करने वाली इस घटना में न केवल एक महिला की उसके पति के सामने इज्तत को नौचा गया, बल्कि दरिंदगी में आरोपी यह भी भूल गए कि वो आपस में सगे रिश्तेदार हैं।

सभी आरोपित, हंसराज गुर्जर, छोटेलाल, इंद्राज गुर्जर, महेश गुर्जर, अशोक गुर्जर को पुलिस ने दबोच लिया है। जिनमें से तीन को जेल भेजा गया है, जबकि तीन को पुलिस ने रिमांड पर लिया है।

थानागाजी से नारायणपुर जाने वाले मार्ग पर दुहार चौगान के पास बीहड़ों में 26 अप्रैल के दिन दहाड़े हुई इस घटना में ना केवल पुलिस का नकारा चेहरा सामने आ गया, बल्कि इस हैवानियत में इंद्राज गुर्जर और हंसराज गुर्जर का रिश्ता भी तार तार हो गया।

दरअसल, हंसराज गुर्जर और इंद्राज गुर्जर आपस में सगे जीजा साला हैं। इंद्राज की नवंबर 2018 में ही हंसराज की सगी बहन से शादी हुई थी। इंद्राज गुर्जर हंसराज गुर्जर का सगा जीजा है और दोनों ने मिलकर एक अबला के साथ एक साथ बलात्कार किया था।

आपको बता दें कि 26 अप्रैल को जब एक पति अपनी पत्नी के साथ थानागाजी जा रहा था, तब पीछे से गाड़ी लेकर आए पांचों आरोपियों ने उनको सुनसान जगह पर रोक लिया और मुख्य मार्ग से दूर बीहड़ में ले गए।

इसके बाद आरोपियों ने पति को नंगा करके पीटा और उसको बांध दिया। इसके बाद पांचों हैवानों ने बारी बारी से उसकी पत्नी के साथ गैंगरेप किया। करीब 3 घंटे तक लाचार पति अपनी पत्नी को छोड़ने की भीख मांगता रहा और दरिंदे उसको नौचते रहे।

इस घटना का आरोपियों ने वीडियो भी बना लिया, जिनके आधार पर दंपत्ति को ब्लैकमेल भी किया गया। बनाए गए सभी 11 वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किये गए, तब जाकर घटना का मीडिया के माध्यम से रिपोर्ट करने पर पुलिस की नींद खुली।

आरोप है कि राजस्थान पुलिस ने सरकार के दबाव में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण के वक्त कांग्रेस पार्टी को वोटों का नुकसान होने के ड़र से मामले को दबाए रखा और दलित दंपत्ति की इज्जत की बखिया उधेड़ने वाले वीडियो सोशल मीडिया वायरल होते गए।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।