New Delhi|

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में हुए आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के संबंधों में जबरदस्त खटास पैदा हो चुकी है। इन्हीं संबंधों का नतीजा है कि भारत और पाकिस्तान के बीच संभवतः world cup 2019 में क्रिकेट का कोई मुकाबला नहीं हो पाएगा।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) की तरफ से तल्ख लहजे में कहा गया है कि हम सरकार के साथ हैं, और भारत सरकार जो भी निर्णय लेगी, उसको लेकर हम आगे का फैसला लेंगे।

इससे पहले आईपीएल (IPL) के चेयरमैन राजीव शुक्ला ने कहा था कि भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट संबंध होना फिलहाल मुझे नजर नहीं आ रहे हैं। आईपीएल के दौरान तो परेशानी क्रिकेटरों का पहले से ही बहिष्कार किया हुआ है।

अब यदि 2019 के वर्ल्ड कप में भी भारत और पाकिस्तान के संबंध इसी तरह बिगड़े रहते हैं तो विश्वकप (world cup-2019) गली क्रिकेट की तरह हो जाएगा।

आपको बता दें कि कल ही हरभजन सिंह ने कहा था कि जब तक पाकिस्तान आतंकवाद (terrorism) खत्म नहीं करता है, तब तक भारत को पाकिस्तान के साथ किसी भी तरह की क्रिकेट की अन्य खेलों में साझेदार नहीं होना चाहिए।

विश्वकप में भारत को साफ कर देना चाहिए कि अगर पाकिस्तान (Pakistan) खेलता है, तो वह इस सबसे बड़े टूर्नामेंट से बाहर हो जाएगा।

आपको बता दें कि विश्वकप में खेलने वाली तमाम देशों की टीमों के बजाय भारतीय क्रिकेट टीम दुनिया की सबसे अमीर क्रिकेट टीम है। पुलवाला हमले के बाद भारत की नाराज़गी के चलते भी आईसीसी (ICC) को भारतीय क्रिकेट टीम को बाहर करना सबसे बड़ी परीक्षा है।