जयपुर। लोकसभा चुनाव में एक तरफा जीत से उत्साहित भाजपा अब नगर निकाय और पंचायती राज के चुनाव में जुट गई है।

बताया जा रहा है कि सभी सांसदों के अलावा विधायकों, विधायक उम्मीदवारों, पूर्व विधायकों, जिलाध्यक्षों और बूथ अध्यक्षों को टारगेट दे दिया गया है।

निकाय चुनाव में हमेशा बेहतर प्रदर्शन करने वाली भाजपा संभवत: नवंबर में होने वाले चुनाव में फिर से कांग्रेस को मात देने की तैयारी कर रही है।

पार्टी ने इसी सिलसिले में बीते दिनों विस्तारकों की बैठक बुलाकर सभी विधायकों, एमएलए उम्मीदवारों, जिलाध्यक्षों और बूथ अध्यक्षों के काम की प्रगति रिपोर्ट देने को कहा है।

पार्टी चाहती है कि निकाय चुनाव और पंचायत चुनाव में भी बड़ी जीत दर्ज कर कांग्रेस को पूरी तरह से घेर लिया जाए। इसके लिए यह सारी तैयारी की जा रही है।

बढ़ेंगी निकाय की सीटें

राज्य सरकार ने निकाय की सीटों में इजाफ करने का मन बना लिया है। जयपुर नगर निगमें अब तक 91 वार्ड थे, जो बढ़कर 150 हो जाएंगे।

ठीक इसी तरह से अन्य जिलों में भी पालिका, परिषद और निगम के वार्ड बढ़ जाएंगे। अजमेर में 60 से 80, जोधपुर में 65 से 100, बीकानेर में 60 से 80, भरतपुर में 50 से 65, कोटा में 65 से 100 और उदयपुर में 55 से 70 वार्ड हो जाएंगे।