BJP के बागी नेता ने क्यों कहा: ‘हनुमान बेनीवाल को आज मैं हनुमानजी कहूंगा’

285
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर।

अपने लच्छेदार भाषणों के कारण हमेशा मीडिया में सुर्खियां बटोरने वाले और जनसमूह के समक्ष मंच पर लोगों को अपने लोकतांत्रिक नॉलेज के चलते काफी प्रभावित करने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेता घनश्याम तिवाड़ी ने आज निर्दलीय विधायक हनुमान बेनीवाल को हनुमान के बजाए हनुमान जी कहकर पुकारा।

साल 2013 में सांगानेर से लगातार तीसरी बार विधायक चुने गए घनश्याम तिवाड़ी ने आज मानसरोवर में शिप्रा पथ थाना के सामने आयोजित विशाल जनसमूह के सामने हनुमान बेनीवाल को हनुमान जी कहकर संबोधित किया।

अपने भाषण की शुरुआत करते हुए घनश्याम तिवाड़ी ने कहा कि मैं हमेशा हनुमान बेनीवाल को उम्र में छोटा होने के कारण हनुमान कहकर पुकारा करता था, लेकिन आज जिस तरह से उन्होंने युवाओं और किसानों की शक्ति को एक करके कांग्रेस और बीजेपी को चुनौती पेश की है, उसके बाद मेरी नजर में इनका कद काफी बढ़ गया है। इसलिए इनको मैं हनुमानजी कह कर पुकारुगा।

बीजेपी को छोड़कर भारत वाहिनी पार्टी के नाम से अपना नया दल गठित कर चुके घनश्याम तिवाड़ी द्वारा हनुमान बेनीवाल को इन शब्दों से नवाजे जाने के कारण जनसमूह ने तालियों की गड़गड़ाहट के साथ उनका स्वागत किया।

आपको बता दें कि हनुमान बेनीवाल के पिता रामदेव बेनीवाल भी विधायक रह चुके हैं। उनका स्वर्गवास हो चुका है, लेकिन उनके और घनश्याम तिवाड़ी के अच्छे ताल्लुकात होने के कारण हनुमान बेनीवाल तिवाडी के आज भी घरेलू संबंध हैं।

इस अवसर पर समाजवादी पार्टी के प्रतिनिधि अलावा जयंत चौधरी ने भी सभा को संबोधित किया। शानदार कटाक्ष के लिए मशहूर तिवाड़ी ने अपने लच्छेदार भाषण में न केवल बीजेपी की जमकर खिंचाई की है, बल्कि कांग्रेस पार्टी द्वारा विपक्ष की भूमिका नहीं निभाई जाने को लेकर उसको भी कटघरे में खड़ा किया।

अगले विधानसभा चुनाव में घनश्याम तिवाड़ी ने हनुमान बेनीवाल के साथ गठबंधन करने और तीसरे मोर्चे की सरकार बनाए जाने का दावा करते हुए कहा कि अब की बार सरकार किसानों और युवाओं की होगी।

हनुमान बेनीवाल द्वारा बुलाई गई रैली समापन के बाद जयंत चौधरी घनश्याम तिवाड़ी के घर पहुंचे और उन्होंने तिवाड़ी के घर पर लंच किया। इसके बाद दोनों नेताओं के बीच सियासत को लेकर गहन विचार विमर्श किया गया।