टोंक जयपुर।

टोंक जिले का सबसे बड़ा बांध और जयपुर, अजमेर, भीलवाड़ा व टोंक की जीवनरेखा बीसलपुर बांध भरकर छलकने को तैयार है। बांध की भराव क्षमता, जो कि 215 मीटर है, वह पूरी हो चुकी है। संभावना है कि आज शाम तक बांध के गेट खोलने पड़ जायेंगे।

प्रशासन ने ऐतिहासत के तौर पर जहां पर भरने से पानी भर जाता है, उन गांवों को खाली करवाने के निर्देश दे दिये हैं। देवली उप खण्ड के अधिकारी ने निर्देश दिये हैं कि बांधी के गेट खोलने से जिन क्षेत्रों में पानी पहुंच सकता है, वहां पर भी लोगों को शिफ्ट किया जाये।

इधर, राजस्थान के सीकर में शनिवार को स्कूल छुट्टियां करने के बाद नागौर के डेगाना, मकराना समेत कई जगह हुई भारी बारिश ने 20 साल का रिकॉर्ड तोड़ दिया। डेगाना में तो 14 इंच बारिश हो गई।

बीसलपुर बांध के केचमेंट एरिया में, जहां पर जलभराव क्षेत्र में हो रही बरसात के कारण अभी भी झमाझत बारिश जारी है। यहां के राजसमंद, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा, अजमेर और टोंक में बरसात का दौर जारी है।

राज्य में वर्षाजनिक हादसों में अब तक 6 जनों की मौत हो चुकी है। राज्य के जसमान की राजगढ़ के कालीपीठ थानाक्षेत्र में डूबने से मौत हो गई। झुंझुनूं के बीबासर में करंट से एक की मौत हो गई। इसी तरह से फतेह सागर में डूबने से 65 साल के मोहनलाल की मौत हो गई है।