hanuman beniwal NDA condidat from nagaur
hanuman beniwal NDA condidat from nagaur

नागौर।
लोकसभा चुनाव 2019 में प्रचार के दौरान एक ओर जहां सोशल मीडिया और राजनीतिक दलों द्वारा धर्म और जाति के नाम पर वैयमनस्य पैदा किया जा रहा है, वहीं नागौर में हनुमान बेनीवाल के एक प्रयास ने बरसों से अलग धारा में बह रहे जाट-राजपूत समाज के नेताओं की दूरियां खत्म कर दी है।

सोमवार को जब एनडीए के उम्मीदवार हनुमान बेनीवाल नागौर पहुंचे तो हजारों की संख्या में लोगों ने उनका स्वागत किया। सैकड़ों गाड़ियों के काफिले में एक बात थी, जो बरसों बाद पहली बार हो रही थी, वह थी जाट-राजपूत नेताओं का साथ।

इन दोनों समाजों के बीच नेताओं की सियासत ने काफी दूरियां पैदा कर दी थीं, लेकिन कल बेनीवाल के रोड शो में सारी भ्रांति दूर हो गई। भाजपा-रालोपा के उम्मीदवार हनुमान बेनीवाल के साथ जाट और राजपूत समाज के नाागैर से तमाम नेता एक साथ मौजूद थे।

इससे पहले दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान दोनों समाजों को बांटने के लिए राजनीतिज्ञों ने भरकर कोशिश की है, जो हमेशा करते रहे हैं, लेकिन यह संभवत: बीते चार दसक में पहला चुनाव होगा, जब​ इन दोनों समाजों के नेता साथ-साथ रहे।

हनुमान बेनीवाल के इस रोड शो ने जहां कांग्रेस और उनकी उम्मीदवार ज्योति मिर्धा की नींद उड़ा दी है, वहीं जो लोग जाट-राजपूत समाज में दूरियां पैदा पर वोट बटोरने का काम करते थे, उनके भी मंसूबों पर पानी फिर गया है।

बेनीवाल के इस रोड शो में नागौर की रालोपा और भाजपा के तमाम छोटे-बड़े नेता मौजूद रहे, जिनमें भाजपा के जिलाध्यक्ष से लेकर पूर्व विधायक भी मौजूद थे।

इस रोड शो में भाजपा के जिलाध्यक्ष नागौर में जाट-राजपूत नेताओं व कार्यकर्ताओं का महासंगम साथ में रहा। इस मौके पर बेनीवाल ने कहा कि मोदी को पीएम बनाने के लिए उन्होंने संकल्प लिया है और इसके लिए वह यहां से कांग्रेस की विचारधारा के खिलाफ चुनाव में उतरे हैं।

इस मौके पर एक लाडनूं में पूर्व विधायक ठाकुर मनोहर सिंह के नेतृव में हनुमान बेनीवाल का स्वागत किया गया। मनोहर सिंह ने आह्वान किया है हमें हनुमान बेनीवाल को राज्य में सबसे बड़ी जीत दिलाकर भेजना है।

इसी तरह से परबतसर के पूर्व विधायक मानसिंह किनसरिया, नावां के पूर्व विधायक विजय सिंह चौधरी, डीडवाना से भाजपा प्रत्याशी रहे जितेंद्र सिंह जोधा, भाजपा जिला अध्यक्ष रमाकांत शर्मा, देहात अध्यक्ष ओमप्रकाश मोदी, जिला युवा मोर्चा के अध्यक्ष लक्ष्मीनारायण मुंडेल ने भी बेनीवाल के लिए जान की बाजी लगा दी है।

उल्लेखनीय है कि बेनीवाल ने कभी भी सार्वजनिक तौर पर राजपूत समाज के खिलाफ टिप्पणी नहीं की, लेकिन विरोधियों द्वारा हमेशा उनको राजपूत समाज का विरोध बताकर प्रचार किया जाता रहा है। ऐसे लोगों पर नागौर के नेताओं ने तमाचा जड़ दिया है।