Nationaldunia

—पूर्व चेयरमैन महेंद्र चौधरी के खिलाफ दायर इस्तगासे की विधायक बेनीवाल ने की निंदा, कहा: यह पुलिस विभाग की ओछी मानसिकता का परिचय

जयपुर। खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने हाल ही में कुचेरा थाना अधिकारी द्वारा पूर्व चेयरमैन महेंद्र चौधरी के खिलाफ दायर इस्तगासे की निंदा की है।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक बेनीवाल ने कहा कि वीडियो वायरल होने के बाद 15 से अधिक दिनों बाद एक जन प्रतिनिधि के खिलाफ अधिकारियों के दबाव में वीडियो पर इस्तगासा किया गया है, जबकि एफएसएल पुष्टि भी नहीं हुई है।

विधायक ने कहा कि सांवराद जैसी घटना में एक महिला आईपीएस के साथ बदसलुकी की गई, तथा तत्कालीन एसपी के साथ मारपीट हुई, साथ ही घटना के दौरान कई पुलिसकार्मिकों के साथ अभद्र व्यवहार हुआ, लेकिन उसके बाद भी मुकदमा कमजोर कर उसे वापिस ले लिया गया।

उन्होंने कहा कि जनता की शिकायत पर कुचेरा के एएसआई की चौथ वसूली के मामले में जन प्रतिनिधि द्वारा मामले को मौके पर देखने व मामलात में खरी—खरी सुनाना कोई गलत नही थी।

विधायक ने कहा पुलिस इस तरह इस्तगासा करके जन प्रतिनिधियों को कमजोर करने का प्रयास कर रही है, उसे बर्दास्त नही किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि मामले में आरोपित एएसआई के खिलाफ भी कार्यवाही की जरूरत है। बेनीवाल ने कहा कि इस मामले को लेकर वह पुलिस के उच्च अधिकारियों से बात भी करेंगे।

जानकारी के अनुसार 15 दिन पूर्व कुचेरा के पूर्व चेयरमैन महेंद्र चौधरी और कुचेरा थाने में कार्यरत एक एएसआई बीच नौकझौक हो गई थी। एएसआई द्वारा नाकाबंदी के दौरान चालान की जगह रिश्वत के पैसे लेने पर चौधरी व पुलिसकर्मी के मध्य हुई बहस हुई थी, जिसका वीडियो वायरल हुआ था। जिसको लेकर अब कुचेरा थाना अधिकारी ने इस्तगासा दायर किया।

बेनीवाल ने कहा की जिले में रश्मि गौड़ हत्याकांड, पुलिस के उप निरीक्षक बालाजी थानाधिकारी की गाड़ी चढ़ाकर हत्या कर देने सहित कई ब्लाइंड मर्डर और आपराधिक घटनाएं आज तक पुलिस खोल नहीं पाई और अब जन प्रतिनिधियों के खिलाफ इस्तगासे किए जा रहे हैं, जो शोभनीय नही है।

Leave a Reply