नई दिल्ली।

सुप्रीम कोर्ट लड़ाई आधार की अनिवार्यता खत्म कर दी हो, लेकिन बैंकों के द्वारा खाता खोलने के लिए आधार नंबर देने का ग्राहकों के ऊपर दबाव डाला जा रहा है।

बैंकों के अलावा मोबाइल कंपनियां भी आधार कार्ड को अनिवार्य किए हुए हैं। मोबाइल नेटवर्क सेवा प्रदाता कंपनियों ने आधार के लिए इतनी अनिवार्यता कर दी है, कि ग्राहकों को आधार के बिना सिम नहीं दी जा रही है।

इस महीने में बैंक के कर्मचारियों का कहना है कि फोटो पहचान पत्र के रूप में कुछ भी जमा कर सकते हैं, पर 1 से 2 माह के भीतर आधार कार्ड जमा कराना अनिवार्य है।

हालांकि, बैंक कर्मियों का कहना है कि इसके चलते भविष्य में सहूलियत होती हैं। इसके लिए बैंकों में आधार बनाने के लिए एजेंट भी बिठा रखे हैं। जबकि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने आरटीआई के जवाब में कहा है कि उन्होंने कोई नहीं किया।

जयपुर में ग्रामीण बैंक से जुड़े कर्मचारियों ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि उनके यहां आने वाले अधिकतर खातेदार ग्रामीण क्षेत्र से होते हैं, जिनके खाते तो बिना आधार के खोल दिए जाते हैं, लेकिन बाद में उनसे आधार कार्ड मांगा जाता है।

आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक ने कहा है कि उनकी तरफ से ऐसा कोई आदेश नहीं दिया गया है। आरबीआई को 6 जुलाई 2018 को पूछा था कि किस आधार पर आरबीआई एक्ट के तहत बैंकों को आधार कार्ड नामांकन करना है।

एक सवाल के जवाब में आरबीआई का कहना है कि उनके पास संबंध में कोई जानकारी अभी तक नहीं है, और वैसे यह भी पूछा गया कि क्या इसकी और से बैंकों में आधार कार्ड जरूरी किया गया है। इस पर आरबीआई ने कहा है कि समाधान की तरफ से कोई आदेश जारी नहीं किया गया है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।