badam devi jaipur hospital dr rajvendra choudhary
badam devi jaipur hospital dr rajvendra choudhary

जयपुर। टोंक जिले के देवली की 57 वर्षीय एक महिला के सिर की नस फटने की स्थिति के बाद तेज दर्द हुआ। परिजन ने डॉक्टर से बात कर मरीज को तुरंत जयपुर ले आए।

यहां पर एंजियोग्राफी करवाई गई, उसके बाद पता चला कि एक्यूरिज्म नाम की नस में गुब्बारे की तरह फुलावा आ गया है, जो रक्त रुकने के कारण बुरी तरह से प्रभावित है।

समय रहते इसका operation नहीं किया जाता तो वह फट सकती थी, जिससे मरीज की जान पर बन आती।

मामला देवली की बादाम देवी का है। करीब 10 दिन पहले बादाम देवी को तेज सिर दर्द की शिकायत हुई।

परिजनों ने बताया जा रहा है कि मरीज को पहले भी दर्द हुआ था, लेकिन उस दिन अचानक दर्द बढ़ने के कारण उसके जयपुर लाया गया।

यहां पर जयपुर अस्पताल में न्यूरो सर्जन डॉ. राजवेंद्र चौधरी को दिखाया गया। डॉ. चौधरी ने बताया कि मरीज की एंजियोग्राफी करने के बाद पता चला कि उसके एन्यूरिज्ज की नस गुब्बारे की तरफ फूल चुकी है।

समय पर operation नहीं किया जाना खतरनाक हो सकता था। डॉक्टर ने तुरंत operation किया। पांच घंटे तक चली इस सर्जरी की गई।

अब अब मरीज बादाम देवी पूरी तरह से स्वस्थ है, उसको एक-दो दिन में अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी।

डॉ. चौधरी ने बताया कि एन्यूूरिज्म की गर्दननुमा जगह गुब्बारे का रुप लेकर पूरी से फटने की स्थिति में पहुंच चुकी थी, जिसके चलते इस जटिल operation को अंजाम देना बड़ी कामयाबी है।

डॉ. चौधरी के अनुसार इस नस के operation और पूरी प्रक्रिया को ‘सब अरेकनाइड ब्रेन हेमरेज’ कहा जाता है।

यह ब्रेन हेमरेज से भी छोटा रुप होता है, यानी ज्यादा खतरनाक होता है। operation से पहले नस पर क्लिप लगाकर ब्लड को रोका जाता है। इसे मरीज के सिर की गुब्बारे नुमा एन्यूरिज्म को क्लिप किया जाना कहते हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।