नई दिल्ली।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को गैर भाजपा सरकारें पलीता लगा रही हैं। दुनिया की सबसे बड़ी हेल्थकेयर स्कीम को लागू करने के लिए पीएम मोदी जहां देशभर में प्रचार कर रहे हैं, वहीं गैर भाजपा, यानी कांग्रेसी और अन्य सरकारें उनको लागू करने में आनाकानी कर रही हैं।

इधर, दिसंबर में हुए विधानसभा चुनाव के दौरान भारतीय जनता पार्टी नहीं जहां 3 राज्यों में सत्ता गंवाई , वही छत्तीसगढ़ में कांग्रेस की सरकार बनते ही आयुष्मान भारत योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया।

दरअसल, इस योजना के तहत भारत में हर 12 सेकंड में एक मरीज उपचार ले रहा है, जबकि अब तक योजना के तहत कुल करीब 12 लाख से ज्यादा लोगों का इलाज किया जा चुका है।

योजना को लागू करने के लिए केंद्र सरकार के साथ प्रत्येक राज्य सरकारों को एक एमओयू करना होता है, जिसके बाद में हर राज्य में आयुष्मान भारत योजना के तहत मरीज को ₹500000 तक का मेडिकल फ्री मिलता है।

वह सरकारी और निजी अस्पताल में कहीं भी इतने रुपए तक का इलाज करवा सकता है। किंतु कांग्रेस शासित राज्य सरकारें मोदी सरकार की इस उद्देश्यई योजना को लागू करने में आनाकानी कर रही है।

आपको बता दें कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार देश के 50 करोड लोगों को इस योजना के दायरे में लाना चाहती है, ताकि उपचार के लिए गरीब की जेब नहीं कटे और उसको बढ़िया से बढ़िया अस्पताल में फ्री इलाज मिल सके।

राजस्थान में कांग्रेसी सरकार है। इसी तरह मध्य प्रदेश में भी कांग्रेसी सरकार है, जहां पर केंद्र के साथ एमओयू किया जा चुका है, लेकिन अभी भी सरकारों ने इस योजना को लागू नहीं किया है।

ये भी पढ़िये :-

Leave a Reply