Jaipur

11 दिन पहले भारत के द्वारा जम्मू-कश्मीर से धारा 370 और अनुच्छेद 35ए को हटाने के बाद पाकिस्तान बुरी तरह से बौखलाया हुआ है।

United Nations के अलावा Muslim countries, America, Russia, China, Japan, England, Germany, Italy समेत पूरे विश्व के ताकतवर देशों के सामने गिड़गिड़ा आने के बाद जब पाकिस्तान का किसी ने साथ नहीं दिया।

आखिरकार अपने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर 14 अगस्त को पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में वहां की संसद को संबोधित करते हुए इमरान खान ने भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को युद्ध की खुली धमकी दी है।

इमरान खान ने धारा 370 हटाने को लेकर पूरी तरह से न केवल नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया है, बल्कि इसके पीछे का असली कारण आरएसएस की आईडियोलॉजी को असली वजह करार दिया है।

इमरान खान ने पाकिस्तान ऑक्यूपाइड कश्मीर में संसद को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की विचारधारा नाजी शासन से मिलती है, जो मुट्ठीभर लोग एक विचार के दम पर दुनिया में राज करना चाहते हैं।

इमरान खान ने भारत और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को चेतावनी देते हुए कहा कि यदि भारत की तरफ से किसी भी तरह का कदम उठाया गया, तो पाकिस्तान ईट का जवाब पत्थर से देगा।

इमरान खान ने बोखलाहट में कहा कि जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाना आज की विचारधारा नहीं है, बल्कि यह तब की है जब संघ का निर्माण हुआ था।

इसके साथ ही इमरान खान ने भारत के मुसलमानों समेत दुनिया के सभी मुस्लिम कंट्रीज में रहने वाले मुसलमानों को इसके लिए बदला लेने के लिए भी उकसाया।

परोक्ष रूप से इमरान खान ने भारत के मुसलमानों को गृह युद्ध करने और मोदी सरकार के खिलाफ लड़ने की भी वकालत कर दी। इमरान खान ने कहा कि जम्मू कश्मीर के बाशिंदों को करने के बाद इमरान खान की सेना आजाद करा लेगी।

इमरान खान ने इसके साथ ही कहा कि जब भारत और पाकिस्तान का विभाजन हुआ था। जिन्ना के द्वारा टू नेशंस थ्योरी दिए जाने को इमरान खान ने जायज ठहराया है।

कहा कि एक साल पहले ही पाकिस्तान के निर्माता मोहम्मद जिन्ना ने इस बात का अंदाजा लगा लिया था, कि आरएसएस की विचारधारा भारत में पड़ेगी और उसके बाद भारत के मुसलमानों पर अत्याचार किए जाएंगे।

इसके साथ ही पड़ोसी मुल्क के वजीर ए आजम ने अपनी कुंठा जाहिर करते हुए कहा कि दुनिया के तमाम देश और यूनाइटेड नेशंस पाकिस्तान की आवाज नहीं सुन रहे हैं, लेकिन इसके परिणाम बहुत भयानक होने वाले हैं और इसका सबसे बड़ा खामियाजा खुद भारत को उठाना पड़ेगा।

इमरान खान की तमाम तरह की धमकियों के बावजूद भारत सरकार की तरफ से अभी तक कोई जवाब नहीं दिया गया है।

आपको बता दें कि इमरान खान 5 अगस्त के बाद दुनिया के तकरीबन सभी देशों और यूनाइटेड नेशंस के सामने जाकर कटोरी की तरह हाथ फैलाकर सहायता की भीख मांग चुका है।

लेकिन किसी ने भी उसके पक्ष में बोलने या उसका साथ देना मुनासिब नहीं समझा। यहां तक कि चाइना ने भी इस बार उसका साथ नहीं दिया है, जिसके चलते इमरान खान बुरी तरह से बौखलाया हुआ है।