राजस्थान: 7 दिसंबर को मतदान 11 को मिल जाएगी नई सरकार

13
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

जयपुर।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में नवंबर और दिसंबर महीने में मतदान होगा। चुनाव आयोग ने राजस्थान, मध्य प्रदेश, मिजोरम, छत्तीसगढ़ और तेलंगाना के विधानसभा चुनावों की घोषणा कर दी।

हालांकि, तेलंगाना राज्य में विधानसभा का कार्यकाल पूरा नहीं हुआ है, लेकिन वहां पर मुख्यमंत्री ने पहले ही विधानसभा भंग करने का एलान कर दिया था। चुनाव आयोग ने आज इन सभी राज्यों में मतदान की तारीख और परिणाम का दिन तय करने की घोषणा कर दी।

मध्यप्रदेश में 28 नवंबर को चुनाव होंगे। छत्तीसगढ़ में 12 नवंबर और 20 नवंबर को चुनाव होंगे। राजस्थान में 7 दिसंबर को मतदान किया जाएगा। मिजोरम में 28 नवंबर को मतदान होगा। तेलंगाना में 7 दिसंबर को चुनाव होना है। सभी पांचों राज्यों में 11 तारीख, यानी कि 11 दिसंबर को मतगणना होगी और उसी दिन परिणाम जारी कर दिया जाएगा।

सबसे पहले छत्तीसगढ़ में 12 नवंबर को मतदान होगा। यहां पर 23 अक्टूबर को नामांकन की आखिरी तारीख है। 24 अक्टूबर को स्क्रूटनी होगी। छत्तीसगढ़ में होने वाले 12 नवंबर के मतदान के दौरान 18 विधानसभाओं पर वोट डाले जाएंगे। दूसरे चरण में 20 नवंबर को मतदान होगा।

इसी तरह से मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। यहां पर एक ही चरण में मतदान किए जाने की घोषणा की गई है। इसी के साथ मिजोरम में भी 28 नवंबर को मतदान होगा।

इधर, राजस्थान और तेलंगाना में 7 दिसंबर को मतदान किया जाएगा। दोनों राज्यों में एक ही चरण में मतदान होना है और सभी सीटों पर 11 दिसंबर को मतगणना होगी।

प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए मुख्य चुनाव आयुक्त ओमप्रकाश रावत ने बताया कि 15 दिसंबर से पहले चुनावी प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। चुनाव में आधुनिक ईवीएम वीवीपट का इस्तेमाल किया जाएगा इसके साथ ही पूरे मतदान की वीडियोग्राफी भी कराई जाएगी।

इस बीच चुनाव की तारीख तय करने को लेकर कांग्रेस पार्टी ने निर्वाचन आयोग के फैसले पर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस के मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्विटर पर चुनाव आयोग की स्वतंत्रता को लेकर कहा है कि चुनाव आयोग ने पांचों राज्यों में चुनाव की तारीख के लिए 12:30 बजे प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी।

लेकिन राजस्थान के अजमेर में 1:00 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली को देखते हुए इसका समय बदलकर 3:00 बजे कर दिया गया, इससे साफ जाहिर है कि चुनाव आयोग स्वतंत्र नहीं है।