Jaipur

भारत सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर से धारा 370 और अनुच्छेद 35a हटाने के बाद एक तरफ जहां पाकिस्तान जबरदस्त बिलबिला रहा है तो दूसरी तरफ भारत को लगातार दुनिया भर के बड़े और ताकतवर देशों का समर्थन प्राप्त हो रहा है।

भारत सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हर कदम पर साथ देने वाले दुनिया के सबसे ताकतवर देशों में से एक इजरायल ने सबसे पहले भारत सरकार के इस कदम की सराहना करते हुए किसी भी विपरीत परिस्थिति में भारत का साथ देने का वादा किया।

दूसरी तरफ शनिवार को रूस ने भी स्पष्ट कर दिया कि भारत द्वारा धारा 370 हटाए जाना उसका अंदरूनी मामला है और इस मामले में किसी भी बाहरी देश को हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं है।

इजराइल के अलावा भारत का साथ देने वाले देशों में सऊदी अरब, यूएई, श्रीलंका, बांग्लादेश समेत करीब 56 देश सामने आ चुके हैं।

इन सभी देशों ने कहा है कि ने कहा है कि जम्मू कश्मीर के मामले में किसी भी तरह का कदम उठाने के लिए भारत खुद सक्षम और जिम्मेदार है इस प्रकरण में किसी भी अन्य देश को हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

यहां तक कि इसराइल ने स्पष्ट किया यदि जम्मू कश्मीर मामले को लेकर भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध होता है तो वह भारत का साथ देगा।

दूसरी तरफ अमेरिका ने अभी तक पाकिस्तान द्वारा तमाम अपील करने के बावजूद कोई रिप्लाई नहीं दिया है, जिससे पाकिस्तान अब दुनिया में अलग-थलग पड़ा हुआ नजर आ रहा है।

जम्मू कश्मीर को लेकर पाकिस्तान दुनिया के तमाम देशों से सहायता मांगता रहा है, ऐसे में भारत सरकार द्वारा जम्मू कश्मीर धारा 370 हटाने के बाद स्पष्ट हो गया है कि पाकिस्तान को इस नाम से नहीं मिला है।

दूसरी तरफ भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर राज्य को उपराज्यपाल राजीव कुमार के नाम से दे दिया है। आज या कल में लद्दाख का भी उप राज्यपाल नियुक्त कर दिया जाएगा।

जम्मू कश्मीर में स्थिति सामान्य हो रही है। धारा 144 हटाई गई है और वहां पर सभी विद्यालय, महाविद्यालय खोल दिए गए हैं।

शुक्रवार को जुम्मा की नमाज अदा की गई थी। 12 तारीख को ईद है, और ईद मनाने के लिए देशभर में श्रीलंका जम्मू कश्मीर से आए हुए लोगों को वापस भेजने के लिए सरकार वचनबद्ध है।

ऐसी स्थिति में पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ रही है, तो दूसरी तरफ भारत सरकार द्वारा धारा 370 हटाने जम्मू कश्मीर में स्थिति बिल्कुल सामान्य होने लगी है।