जयपुर।

राजस्थान में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सामने झालरापाटन विधानसभा सीट से चुनाव लड़ने की घोषणा के साथ ही आईपीएस पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल पंकज चौधरी पर पुलिस ने शिकंजा कस दिया है।

IPS की पत्नी मुकुल पंकज चौधरी के खिलाफ गिरफ़्तारी का वारंट जारी कर दिया गया है। कहा जा रहा है की तीन महीने पहले के एक मामले में मुकुल पंकज चौधरी के खिलाफ हनुमानगढ़ जिले में एक स्कूल में तोड़फोड़ करने के मामले में दर्ज मुकदमे के आधार पर यह गैर जमानती वारंट जारी किया गया है।

इस गिरफ़्तारी के वारंट पर मुकुल पंकज चौधरी का कहना है कि एेसा करके मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे उन्हें तोड़ने की कोशिश कर रही हैं, ताकि वे उनके सामने चुनाव नहीं लड़ सकें, लेकिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के इस कृत्य से हुए डरने वाली नहीं हैं।

-विज्ञापन -

आपको बता दें कि करीब एक हफ्ते पहले अपने IPS पति पंकज चौधरी के अपमान का बदला लेने के लिए राजे के सामने चुनाव लड़ने का एलान कर सुर्ख़ियों में आने वाली मुकुल चौधरी की राजनीती में कदम रखने के साथ ही मुश्किलें बढ़ गयी हैं।

अभी उनके मुख्यमंत्री राजे को चुनावों में चुनोती देने के लिए झालरापाटन विधानसभा में बैनर-पोस्टर लगने शुरू हुए ही थे। जिसके बाद उनके खिलाफ गिरफ़्तारी का वारंट जारी हो गया, वह भी गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट।

हनुमानगढ़ के एक प्राइवेट स्कूल में तोड़फोड़ के मामले में उनकी मां, पूर्व कानून मंत्री शशि दत्ता के अलावा आईपीएस पंकज चौधरी की पत्नी मुकुल पंकज चौधरी सहित 6 लोगों के खिलाफ कोर्ट की ओर से गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया है।

यहां 7 जून 2018 को एक स्कूल में तोड़फोड़ की गई थी। तोड़फोड़ के बाद किराएदार विजय चौहान ने इनके खिलाफ पुलिस में मामला दर्ज कराया था। एफआईआर के चलते इन्हें तलब किया गया था, लेकिन ये सभी पेश नहीं हुए।

ऐसे में कोर्ट ने सख्ती दिखाते हुए मुकुल पंकज चौधरी सहित 6 लोगों के खिलाफ गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी किया है। इस सरकारी कार्रवाई पर मुकुल चौधरी ने साफ़ कर दिया है, कि वह कतई इससे डरने वाली नहीं है। यह एक तरह से अब वसुंधरा राजे की चुनावों से पहले ही नैतिक हार ही है।

मुकुल पंकज चौधरी के IPS पति पंकज चौधरी का आरोप है की उनके खिलाफ गुस्से को प्रसाशन उनकी पत्नी के खिलाफ निकाल रहा है, ताकि लोकतांत्रिक तरीके से चुनाव नहीं लड़ पाए।

आईपीएस खुद कानून की बारीकियों को बेहतर तरीके से समझने वाले आईपीएस पंकज चौधरी की माने तो इसे मामले में उन्होंने खुद ने 3 FIR दर्ज करवा रखी है, जिसमे उन्हें सरेआम धमकी देने का भी मामला है। आईपीएस चौधरी का कहना है की उस पर अब तक उनके ही विभाग की ओर से कार्यवाही नहीं की जा रही है।

भले ही IPS पंकज चौधरी और उनकी पत्नी CM वसुंधरा राजे पर संगीन आरोप लगा रहे हैं, लेकिन बीजेपी का कहना है कि कानून अपना काम कर रहा है। बीजेपी का कहना है कि इन्हें भी आरोप लगाने की बजाय कानून का सहयोग करना ही चाहिए।

फिलहाल इस मुद्दे पर आरोप प्रत्यारोपों का दौर शुरू हो गया है। सरकार चाहे कितनी भी सफाई क्यों ना दे, लेकिन मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के सामने लड़ने का एलान करने के कुछ ही समय बाद शुरू हुई कार्यवाही से कई सवालिया निशान लग रहे हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।