Jaipur

राजस्थान सरकार के चिकित्सा मंत्री डॉ रघु शर्मा और उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी के सोशल मीडिया पर गिड़गिड़ाने के बावजूद राजस्थान विश्वविद्यालय में एनएसयूआई बुरी तरह से हार गई।

राजस्थान सरकार के 2 कैबिनेट मंत्रियों के गिड़गिड़ाने के बावजूद एनएसयूआई हारी 1

गौरतलब है कि 2 दिन पहले ही प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री भंवर सिंह भाटी और प्रदेश के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने सोशल मीडिया पर अपील की थी कि प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों और महाविद्यालयों में युवा एनएसयूआई को वोट दें, बावजूद इसके राजस्थान विश्वविद्यालय में एनएसयूआई के अध्यक्ष पद के प्रत्याशी उत्तम चौधरी बुरी तरह से हार गए हैं।

राजस्थान विश्वविद्यालय में एनएसयूआई टिकट मिलने के बाद बगावत कर निर्दलीय उम्मीदवार बनी पूजा वर्मा ने 600 से ज्यादा वोटों से बड़ी जीत दर्ज करके, दो कैबिनेट मंत्रियों को मानसिक तौर पर हराने में कामयाबी हासिल की है।

राजस्थान सरकार के 2 कैबिनेट मंत्रियों के गिड़गिड़ाने के बावजूद एनएसयूआई हारी 2

इतना ही नहीं निर्दलीय प्रत्याशी पूजा वर्मा ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के अमित कुमार और उनके समर्थन में सोशल मीडिया पर अपील करने वाले भारतीय जनता पार्टी के तमाम पदाधिकारियों और युवा मोर्चा के पदाधिकारियों द्वारा अपील करने के बावजूद एबीवीपी तीसरे नंबर पर चली गई है।

हालांकि, महासचिव के पद पर एनएसयूआई के महावीर प्रसाद गुर्जर और उपाध्यक्ष पद पर एनएसयूआई की प्रियंका मीणा ने जीत दर्ज करके राज्य सरकार को बड़ी राहत देने में कामयाबी हासिल की है।

राजस्थान सरकार के 2 कैबिनेट मंत्रियों के गिड़गिड़ाने के बावजूद एनएसयूआई हारी 3

सबसे बड़ी बात यह है कि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को साल 2013 से के बाद में भी जिस जीत की उम्मीद थी, वह हासिल नहीं हो पाई और बीजेपी के तमाम नेताओं के द्वारा सोशल मीडिया पर की गई अपील युवाओं द्वारा खारिज कर दी गई।

राजस्थान सरकार के 2 कैबिनेट मंत्रियों के गिड़गिड़ाने के बावजूद एनएसयूआई हारी 4

जीत का दम भरने वाली अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को एक बार फिर से केवल संयुक्त सचिव पद पर किरण मीणा की जीत के साथ संतोष करना पड़ा है।