Nahargarh-hills jaipur

जयपुर।
नाहरगढ़ पहाड़ी से सुबह पर्यटकों से भरी बस तीन सौ फीट नीचे खाई में गिरने की सूचना पर हड़कंप मच गया। पुलिस, एम्बुलेंस और डॉक्टर्स को रेस्क्यू के लिए तुरंत घटनास्थल पर पहुंचने को कहा गया।

सूचना पर मीडियाकर्मी तुरंत मौके पर पहुंच गए, लेकिन डेढ़ घंटे तक पुलिस और एम्बुलेंस मौके पर नहीं पहुंचे। राहत की बात यह है कि यह मॉक ड्रिल का हिस्सा था, लेकिन इसने हमारी व्यवस्थाओं की पोल जरूर खोल दी।

आज सुबह नाहरगढ़ पहाड़ी से पर्यटकों की बस खाई में गिरने की सूचना दी गई थी। सिविल डिफेंस की टीम को रेस्क्यू के लिए मौके पर भेजा गया। सिविल डिफेंस की टीम मौके पर पहुंच गई, लेकिन मौके पर कोई हादसा नहीं हुआ था। दरअसल यह एक मॉक ड्रिल थी।

इतनी गंभीर घटना की सूचना के बावजूद एम्बुलेंस, डॉक्टर्स की टीम और स्थानीय पुलिस इसको लेकर गंभीर नहीं थी। सिविल डिफेंस के पहुंचने के करीब सवा घंटे बाद एम्बुलेंस घटनास्थल पर पहुंची। इसके बाद डॉक्टर्स और ब्रह्मपुरी थाना पुलिस की पीसीआर आई।
इसलिए हुई मॉक ड्रिल

नाहरगढ़ पहाड़ी से खाई में वाहनों के गिरने की कई बार घटनाएं हुई हैं। ऐसे में किसी बड़े हादसे के होने पर उन्हें रेस्क्यू करने और मदद करने के लिए मॉक ड्रिल की गई थी, जिससे भविष्य में किसी अनहोनी होने पर तुरंत सहायता उपलब्ध कराई जा सके।
ऐसे की मदद

मॉक ड्रिल के दौरान तीन सौ फीट गहरी खाई में गिरी हुई डमी को सिविल डिफेंस की टीम ने बाहर निकाला। इसके बाद वहां मौजूद डॉक्टर्स की टीम ने उनका प्राथमिक उपचार कर उन्हें एम्बुलेंस के जरिए अस्पताल भेजा। स्थानीय पुलिस की मदद से ट्रैफिक कंट्रोल कर एम्बुलेंस को अस्पताल पहुंचने तक की व्यवस्था कराई गई।