आबादी के अनुसार मिले जाट समाज को टिकट

5
- Advertisement - dr. rajvendra chaudhary

आपका विज्ञापन नेशनल दुनिया पर लगायें, प्रतिदिन हजारो लोगो तक आपके बिजनेस को पहुंचाए विज्ञापन रेट मात्र 100 रूपये प्रतिदिन से शुरू...

जयपुर।
अखिल भारतीय आदर्श जाट महासभा के ने मांग की है कि राजस्थान में होने वाले विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टियों को जाट समाज की आबादी के मुताबिक टिकट देना चाहिए।
नव निर्वाचित राष्ट्रीय अध्यक्ष सुबे सिंह चौधरी ने कहा की मुख्यमंत्री भी जाट समुदाय से बनना चाहिए, और सभी राजनीतिक पार्टियों से मांग है कि वे जमीन से जुड़े कार्यकर्ताओं को अपने उम्मीदवार बनाए।
इस अवसर पर आदर्श जाट महासभा के अध्यक्ष चौधरी ने कहा कि विधानसभा चुनाव में राज्य की सभी राजनीतिक पार्टियों को राजस्थान के जाट वर्ग की आबादी के मुताबिक टिकट मिलना चाहिए।
उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक 17 अक्टूबर को जयपुर में आयोजित की गई। बैठक में भारत के संपूर्ण राज्यों के जाट महासभा के प्रतिनिधियों ने सूबे सिंह चौधरी को राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में चुना। इससे पहले सुबे सिंह चौधरी अखिल भारतीय आदर्श जाट महासभा में राजस्थान इकाई के प्रदेश अध्यक्ष थे।
राष्ट्रीय अधिवेशन में मांग की गई है कि हरियाणा जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान जाटों पर दर्ज मुकदमा वापस लें। इस अवसर पर कहा गया कि हरियाणा सरकार से मजबूती से वार्ता पर पक्ष रखने और राजस्थान चुनाव के दौरान सभी राज्यों की आबादी के अनुसार टिकट देने का प्रस्ताव पास किया गया।
इस अवसर पर अखिल भारतीय जाट महासभा के सर्वसम्मति से चुने गए अध्यक्ष सूबे सिंह में राजनीतिक पार्टियों को किसान वर्ग से आने वाले नेताओं को जगह मिलनी चाहिए, साथ ही साथ यह भी मांग गई है कि सरकारों को किसानों के दर्द को महसूस किया जाना चाहिए।
जाट महासभा ने मांग की है कि गोरक्षक लोक देवता वीर तेजाजी की जयंती सरकारी स्कूल में युवा प्रेरणा दिवस के रूप में मनाया जाए, देश के सभी जाटों को ओबीसी के वर्ग में रखा जाए और जाट समाज के गौरवशाली इतिहास को स्कूल-कॉलेज की पाठ्यपुस्तक के सिलेबस में शामिल किया जाए।

ऐसी खबरों के लिए हमारे साथ बने रहिए। सरकार और कॉरपोरेट दबाव से मुक्त रखने के लिए हमें आप Paytm नं. 9828999333 पर आर्थिक मदद भी कर सकते हैं।