nationaldunia

नई दिल्ली।

दिल्ली विधानसभा में केजरीवाल सरकार द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने का प्रस्ताव पास कर दिया है। इस कथित प्रस्ताव पर आम आदमी पार्टी में खूब विवाद हो गया।

प्रस्ताव को सोशल मीडिया पर विधायक अलका लांबा ने फैलाया , जिसके बाद पार्टी ने लांबा की छुट्टी कर दी।
पार्टी ने उनसे विधानसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा ले लिया।

सूत्रों का दावा है कि इस मामले में विधायक सोमनाथ भारती को पार्टी के प्रवक्ता पद से हटा दिया गया है। भारती ने दावा किया था कि उन्होंने यह प्रस्ताव विधानसभा में दिया था।

आप ने कहा है कि पहले लाये गये मूल प्रस्ताव में राजीव गांधी से भारत रत्न वापस लेने की बात शामिल ही नहीं की गई थी, इसको बाद में हाथ से जोड़ा गया।

प्रस्ताव विधायक जरनैल सिंह ने रखा था, जिसका विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल समेत सभी सदस्यों ने खड़े होकर समर्थन किया। इसके बाद प्रस्ताव पारित हो गया।

इसे लेकर आम आदमी पार्टी के विधायक और प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि यह मूल प्रस्ताव का हिस्सा नहीं था। विधायक ने बाद में इसको अपनी राइटिंग में लिखा, जिसे इस तरह से पास नहीं माना जा सकता है।

इस विवादित प्रस्ताव में लिखा है कि दिल्ली सरकार को भारत के गृह मंत्रालय को कड़े शब्दों में लिखकर देना चाहिए कि राजधानी के इतिहास के सबसे भयंकर जनसंहार के पीड़ित परिवारों व उनके करीबी न्याय से वंचित हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।