रचना चौधरी@जयपुर।

लगातार 4 दिन से राजस्थान में गुर्जर समाज के द्वारा 5 फ़ीसदी आरक्षण को लेकर किए जा रहे हैं आंदोलन में आज बड़ा फैसला हुआ है।

राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के संयोजक और खींवसर से विधायक हनुमान बेनीवाल के द्वारा विधानसभा में पुरजोर तरीके से गुर्जर आंदोलन का समर्थन करके सरकार को चेतावनी देने के बाद जो कि राज्य सरकार ने विधानसभा से प्रस्ताव पास करने का फैसला किया है।

विधायक हनुमान बेनीवाल ने पर्ची के माध्यम से विधानसभा के भीतर गुर्जर आरक्षण को लेकर सरकार को जमकर घेरा।

उन्होंने पूर्ववर्ती सरकारों की भी तीखी आलोचना की और कहा कि प्रदेश में गुर्जर भाइयों को आरक्षण का लाभ मिलना चाहिए और इसके लिए राज्य विधान सभा को प्रस्ताव पास करके केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को भेजना चाहिए।

इसके बाद सत्ता में आई राज्य सरकार ने आनन-फानन में प्रस्ताव बनाकर केंद्र को भेजने का निर्णय लिया है। बताया जा रहा है कि प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है और कल राज्य विधानसभा में उसको पारित करवा दिया जाएगा।

विधानसभा के बाहर पत्रकारों से बात करते हुए हनुमान बेनीवाल ने कहा कि गुर्जर समाज की मांग जायज है, और जरूरत पड़ी तो पूरा जाट समाज गुर्जरों के समर्थन में आंदोलन पर उतर जाएगा।

उन्होंने कहा कि विधानसभा के भीतर बीजेपी के लोग आंदोलन की पैरवी कर रहे हैं, लेकिन उनके हाथ 72 गुर्जर भाइयों के खून से रंगे हुए हैं, इसलिए उनको गुर्जर आरक्षण की बात कहने का कोई हक नहीं है।

बेनीवाल ने कहा कि 2003 से लेकर 2008, 2008 से लेकर 2013 और 2013 से लेकर 2018 तक की सरकारों ने गुर्जरों को केवल आश्वासन दिए और झूठे वादे किए हैं, अब समय आ गया है कि उनको 5 फ़ीसदी आरक्षण का लाभ देकर सम्मान दिलाया जाए।

उन्होंने राज्य सरकार को चेतावनी भरे लहजे में कहा कि अगर गुर्जरों को आरक्षण का लाभ नहीं दिया गया तो पूरा जाट समाज गुर्जर समाज के समर्थन में सड़कों पर उतर जाएगा, जिसके लिए राज्य सरकार जिम्मेदार होगी।

हनुमान बेनीवाल की चेतावनी के बाद सकते में आई राज्य सरकार ने आनन-फानन में फैसला करते हुए कल विधानसभा में गुर्जरों को 5 प्रतिशत आरक्षण का लाभ देने का प्रस्ताव पास करवाने का निर्णय लिया है, उस प्रस्ताव को कानून बनाने के लिए केंद्र सरकार के पास भेजा जाएगा।

ये भी पढ़िये :-

Leave a Reply