alwar thanagaji gang rape

जयपुर।
बीते माह की 26 तारीख को थानागाजी क्षेत्र में एक विवाहिता के साथ उसके पति के सामने ही पांच दरिंदों द्वारा गैंगरेप करने और उसका वीडिया बनाकर सोशल मीडिया पर वायरल करने के मामले में अब अलवर जिला दो फाड़ हो गया है।

सरकार ने अलवर में अब कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए दो पुलिस अधीक्षक बनाने का फैसला किया है।

सरकार से पुलिस विभाग बीते लंबे समय से मांग कर रहा था, लेकिन तत्कालीन वसुंधरा राजे सरकार ने अनुमति नहीं दी थी, अब आज ही गहलोत सरकार ने इसको लेकर सैद्धांतिक सहमति दे दी है।

अब तक अलवर में एक ही एसपी हुआ करता था, लेकिन एनसीआर क्षेत्र होने और मेवात का बड़ा इलाका होने के कारण यहां पर अपराधों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही थी।

इसी को लेकर पुलिस ने अलवर जिले को दो पुलिस अधीक्षक कार्यालयों में बांटने की मांग की थी। अब अलवर एसपी के साथ ही भिवाड़ी एसपी लगाने का काम किया जाएगा।

हालांकि, अभी एसपी कार्यालय का नाम क्या होगा, इसको लेकर निर्णय नहीं लिया गया है। गौरतलब है कि वर्तमान सरकार में गृह विभाग का चार्ज भी खुद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के पास ही है।