नई दिल्ली।

महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक नाटक के बीच एक और विवाद सामने आ गया होटल आयात में कांग्रेस, एनसीपी और शिवसेना के 162 विधायकों का दावा करने वाले तीनों दलों के सामने बड़ा संकट खड़ा हो गया, जब शिवसेना के नेता उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे ने कांग्रेश की अध्यक्षा सोनिया गांधी के नाम की शपथ ले ली।

आदित्य ठाकरे के द्वारा इस तरह से सोनिया गांधी की शपथ लिए जाने को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने गहरी नाराजगी जाहिर की है भाजपा के एक विधायक ने कहा कि क्या यही बालासाहेब ठाकरे की शिवसेना है?

गौरतलब है कि सोमवार को दिनभर चली कवायद के बाद शाम के वक्त एनसीपी कांग्रेस और शिवसेना के सभी विधायकों ने होटल आयात में शपथ लेकर कहा कि तीनों दलों के अलावा किसी भी दल के साथ जाकर सरकार नहीं बनाई जाएगी और महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार का सर्वनाश किया जाएगा।

कांग्रेस एनसीपी और शिवसेना ने दावा किया है कि उनके 162 विधायक होटल आयात में मौजूद हैं, जबकि भारतीय जनता पार्टी का कहना है कि 162 विधायक होने का दम भरने वाले इन तीनों दलों के नेताओं को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के वक्त सब पता चल जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पिछले 3 दिन से महाराष्ट्र में जबरदस्त राजनीतिक नाटक चल रहा है रविवार सुबह 8:15 बजे महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने शपथ ली उनके साथ एनसीपी के नेता अजित पवार ने उप मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है।

इस प्रकरण पर महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी ने विधिक राय ली है, जबकि सुप्रीम कोर्ट की तरफ से मंगलवार को फैसला सुनाया जाएगा। माना जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट देवेंद्र फडणवीस वाली सरकार को जल्द से जल्द फ्लोर टेस्ट करने के लिए निर्देश दे सकती है।

आदित्य ठाकरे द्वारा सोनिया गांधी के नाम की शपथ लिए जाने को लेकर एक और जहां भारतीय जनता पार्टी ने तीखा हमला बोला है, वही अभी शिवसेना के भीतर भी विरोध के स्वर उठने की संभावना जताई जा रही है।

इसी तरह की तमाम इंटरेस्टिंग खबरें पढ़ने के लिए हमारी मुख्य वेबसाइट नेशनल दुनिया डॉट कॉम पर विजिट करें।