जयपुर।
राजस्थान में इस साल के अंत तक होने वाले चुनाव को लेकर आम आदमी पार्टी ने आज अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया। हालांकि पार्टी ने कहा है की यह घोषणा पत्र मात्र ड्राफ्ट है, जनता के सुझाव के बाद अंतिम घोषणा पत्र जारी किया जाएगा।
फिर भी इस लिहाज से राजस्थान में आम आदमी पार्टी पहला दल हो गया, जिसने सबसे पहले घोषणा पत्र जारी किया है।
पार्टी के राजस्थान प्रभारी दीपक बाजपेई ने पिंक सिटी प्रेस क्लब में पत्रकारों से बात करते हुए बताया कि राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी का पूरा ध्यान किसान जवान और राजस्थान पर रहेगा।
इसी को लेकर हम ने घोषणा पत्र तैयार किया है। जिसमें भ्रष्टाचार का खात्मा और असली स्वराज की स्थापना, कृषि एवं किसान, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य राजस्थान, राज्य कल्याण कर्मचारी कल्याण, दिव्यांग निशक्तजन कल्याण, महिला एवं बाल विकास, पशुपालन डेयरी खाद्य सुरक्षा और नागरिक आपूर्ति तथा उपभोक्ता संरक्षण, युवा रोजगार एवं खेलकूद, ऊर्जा एवं बिजली, कानून-व्यवस्था।
व्यापार एवं उद्योग, वन संरक्षण व पर्यावरण, श्रमिक कल्याण, शहरी विकास स्वायत्त शासन एवं आवासन, पूर्व सैनिक होमगार्ड एवं विकास, अनुसूचित जाति, जनजाति अन्य पिछड़ा वर्ग को लेकर सभी समस्याओं को सम्मिलित किया गया है।
वाजपेई ने इस मौके पर कहा कि दिल्ली सरकार की तर्ज पर राजस्थान में भी यदि आम आदमी पार्टी की सरकार बनती है, तो यहां पर भी चिकित्सा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने के रूप में मोहल्ला क्लिनिक शुरू किया जाएगा।
जैसे दिल्ली में सभी सरकारी डिस्पेंसरी को प्राइवेट हॉस्पिटल्स से बेहतर बना दिया गया है, सरकारी विद्यालयों को प्राइवेट स्कूल्स से बेहतर बना दिया गया है। अधिकतम फीस वहां पर तय की जा चुकी है। आज दिल्ली में प्राइवेट स्कूल से बच्चे टीसी लेकर सरकारी विद्यालयों में एडमिशन ले रहे हैं।
लोग प्राइवेट अस्पतालों में उपचार करवाने की राजकीय चिकित्सालय में अपना इलाज करवा रहे हैं, ठीक वैसे ही राजस्थान में भी यदि आम आदमी पार्टी सरकार बनती है तो यहां पर भी उतने ही महत्वपूर्ण और अच्छे कार्य के जाएंगे।
उन्होंने दावा किया कि राजस्थान में भी आम आदमी पार्टी प्रत्येक सैनिक के शहीद होने पर उसके परिवार को एक करोड़ की आर्थिक सहायता और एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने के अपने वादे पर प्रतिबद्ध है।