जयपुर।

राजस्थान में मंत्रिमंडल को शपथ लेने के बाद आज तीसरा दिन हो गया है, लेकिन इसके बावजूद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट अपने मंत्रियों को विभाग नहीं बांट पा रहे हैं।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के द्वारा मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को स्पष्ट निर्देश दे दिए गए हैं कि जल्दी से जल्दी मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा किया जाए, ताकि सरकार सुचारू रूप से अपना काम कर सके।

2 दिन तक लगातार बड़े मंथन के बावजूद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच में मंत्रियों के विभागों के बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बन पाने के कारण आज दोपहर में अशोक गहलोत दिल्ली रवाना हो गए।

इस बीच खबर सामने आई है कि आज भी मुख्यमंत्री अशोक गहलोत अपने मंत्रिमंडल में शामिल 23 मंत्रियों को एक भी विभाग बांटने में कामयाब नहीं हो पाए हैं।

बताया जा रहा है कि राहुल गांधी के साथ विचार विमर्श के बाद अशोक गहलोत और सचिन पायलट कल मंत्रियों को मिलने वाले विभागों पर अपनी सहमति देंगे। उसके बाद अंतिम सूची राज्यपाल कल्याण सिंह के पास भेजी जाएगी।

आपको बता दें कि कांग्रेस पार्टी ने प्रदेश के विधानसभा चुनाव में 99 सीटों पर जीत हासिल की थी। इसके साथ ही एक सीट पर उनके सहयोगी पार्टी आरएलडी के उम्मीदवार सुभाष गर्ग ने जीत दर्ज की।

प्रदेश की 199 सीटों पर विधानसभा चुनाव किए थे। अलवर के रामगढ़ में बहुजन समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार लक्ष्मण सिंह की बीच में ही मृत्यु हो जाने के कारण चुनाव निरस्त कर दिया गया था, वहां पर अभी बाद में चुनाव होगा।

ऐसे में राज्य विधानसभा की 199 सीटों में से जिस पार्टी के पास 100 सीट होती है, उसकी सरकार बनती है। कांग्रेस पार्टी ने इसी के आधार पर सरकार बनाई और उसके बाद पार्टी में मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री को लेकर लंबी जंग हुई, उसका फैसला 3 दिन बाद राहुल गांधी के द्वारा किया गया।

7 दिसंबर को राज्य में विधानसभा चुनाव हुए थे। 11 दिसंबर को परिणाम आया उसके 5 दिन बाद मुख्यमंत्री को शपथ दिलाई गई और उसके 3 दिन बाद तक मंत्रिमंडल को शपथ नहीं दिलाई जा सकी। अब आज तीसरा दिन पूरा हो चुका है, लेकिन मंत्रियों के बीच विभागों का बंटवारा नहीं हो पा रहा है।