कुमावत समाज सुधार एवं सेवा समिति के तत्वाधान में 13वां सामूहिक विवाह सम्मेलन हुआ संपन्न।

हितेश रारा@नावासिटी/मारोठ।

कुमावत समाज सुधार सेवा समिति के तत्वाधान में रामनवमी के पावन अवसर पर शनिवार को 13वां सामूहिक विवाह सम्मेलन का आयोजन किया गया। दो जगह सम्पन्न हुए सम्मेलनों में 95 जोड़े सांगानेर के सायपुरा और 33 जोड़े नावां में एक दूसरे के हमसफर बने।

नावां में समिति अध्यक्ष मदनलाल पिपलोदा ने बताया कि सामूहिक विवाह सम्मेलन को लेकर शनिवार को सुबह 7:00 बजे समस्त दूल्हे घोड़ियों पर सवार होकर पंचायत समिति भवन से बैंड बाजों के साथ रवाना होकर जोगियों के आसन स्थित राधा कृष्ण मंदिर परिसर पहुंचे।

जहां विधी अनुसार तोरण की रस्म अदा की गई। मंदिर परिसर में वरमाला का कार्यक्रम आयोजित किया गया और परिणय संस्कार भी किया गया।

शिल्प एवं माटी कला बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष हरीश कुमावत की अध्यक्षता में कार्यक्रम आयोजित हुआ इस मोके पर नावा सोशियल सर्विस सोसायटी के अध्यक्ष लुकमान शाह, फ्रेंड्स क्लब अध्यक्ष मनोज गंगवाल व वीर बजरंगी सेवा समिति के सदस्यों सहित कई जनप्रतिनिधि गणमान्य मौजूद रहे।

पांच कन्याओं का निशुल्क व चार को पंजीयन शुल्क की छूट 10000 लोगों ने की कार्यक्रम में शिरकत

कुमावत समाज सुधार सेवा समिति के द्वारा इस साल समाज में अत्यधिक सुधार के लिए आर्थिक रूप से कमजोर पांच कन्याओं का निशुल्क विवाह तथा चार का पंजीयन शुल्क में छूट की गई।

जिससे समाज के समस्त सदस्यों ने इस निर्णय का स्वागत किया शहर में शनिवार को सामूहिक विवाह सम्मेलन को लेकर 33 जोड़ों के साथ 10000 से भी अधिक लोग मौजूद रहे।

समाज अध्यक्ष मदन पिपलौदा व मीडिया प्रभारी कैलाश कुमावत ने बताया कि इस अवसर पर करीब 7000 लोगों के खाने की व्यवस्था की गई जिसमें लगभग 4 क्विंटल चीनी के साथ 20 हलवाईयो ने अपना काम करते हुए नजर आए।

भोजन व्यवस्था को कुमावत सेवा समिति, गो रक्षा दल, नोबेल शिक्षण संस्थान ,लोकनाथ तिलक संस्थान, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ,प्रताप विद्यापीठ तथा कुमावत युवा शक्ति द्वारा अपना योगदान दिया गया।

कुमावत समाज के मीडिया प्रभारी कैलाश चंद्र बगरानीया नवरत्न मोरवाल ने बताया कि समिति के पदाधिकारी संरक्षक शिल्प एवं माटी कला बोर्ड पूर्व अध्यक्ष व पूर्व विधायक राजस्थान सरकार हरीश चंद्र कुमावत, पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष नावा देवाराम मोरवाल, पूर्व समिति अध्यक्ष बाबूलाल दुबलदिया।

भाजपा मंडल अध्यक्ष व पूर्व समिति अध्यक्ष मोहनलाल जालंधरा, कार्यकारी अध्यक्ष कुमावत समाज नावा नारायण राम नोखवाल ,हुस्ताजी रतनलाल घोड़ेला, संयोजक पीएचइडी सीताराम नागा, महामंत्री सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक सीताराम प्रजापत।

कोषाध्यक्ष ब्रांड एम्बेसडर स्वच्छ भारत मिशन तुलसी राम राजस्थानी ,मंत्री जगदीश प्रसाद नागा, मोहनलाल मारवाल ,बाबूलाल कुसमीवाल, भैरू राम मारवाल, गोविंद राम मारवाल ,लक्ष्मण राम नागा, खीवराज सोकल, मोहनलाल जायलवाल।

भंवर लाल सिहोटा ,हनुमान राम झनझनोदिया, संगठन सलाहकार नवरत्नमल दादरवाल ,मदन लाल कुसमीवाल, गोपाल लाल कुसमीवाल, रामचंद्र निकवाल,लादूराम घोड़ेला ,उपाध्यक्ष हेमाराम मोरवाल।

मोतीराम जालंधरा, कालूराम माचीवाल, घासीराम पचेरिवाल ,चुन्नीलाल जालंधरा, शिवकरण जालंधरा, मोतीलाल सिहोटा, डॉ किशनलाल भुरोदिया ,प्रेमचंद दुबलदिया , संगठन मंत्री दानमल कारग्वाल ,प्रेमाराम दादरवाल।

श्रवण कुमार जालंधरा, टोडरमल दादरवाल, शियोजी राम नोखवाल ,गोपाल लाल सिहोटा,प्रभुराम किरोड़ीवाल, हनुमान प्रसाद नागा, सह संरक्षक कालूराम सारड़ीवाल, प्रभु राम सिंघाटीया ,नाथूराम धोड़ेला, लालचंद जालंधरा, रामचंद्र राजोरिया।

सहसंयोजक तुलसीराम नागा, महेश कुमार गुरिया,मोहनलाल घोड़ेला ,रामलाल घोड़ेला ,भीवाराम बागोरिया ,रामरतन कुसमीवाल,श्यामलाल राजोरिया ,तेजा राम दादरवाल ,कानाराम जालंधरा,

रामेश्वर लाल राजोरिया ,गोवर्धन लाल सिधाटिया,रमेश कुमार दुबल दिया ,चंदाराम मारवाल, भिवाराम दूबलदिया,कल्याणमल जालंधरा, कमल किशोर दुबलदिया ,बजरंग लाल गुरीया ,राधे श्याम सारडीवाल ,

कानूनी सलाहकार आनंदीलाल एडवोकेट ,राजेश कुमार एडवोकेट ,बालकिशन जालंधरा,दिनेश जालंधरा,सहित कई जनप्रतिनिधि मौजूद रहे।

मोहनलाल कुमावत श्रवण लाल कुमावत ने बताया कि सामूहिक विवाह सम्मेलन में सम्मिलित होने के लिए आवेदन शुल्क वर पक्ष से ₹11000 व वधू पक्ष से ₹11000 आवेदन करते समय तथा ₹11000 वर पक्ष द्वारा एवं ₹11000 वधू पक्ष द्वारा पंजीयन करते हुए लिए गए।

वर की आयु 21 वर्ष तथा वधू की आयु 18 वर्ष होना अनिवार्य रखी गई साथ ही दोनों की आयु प्रमाण पत्र ,आधार कार्ड, मूल निवास प्रमाण पत्र एवं वधु का एसबीआई बैंक में खोले गए।

खाते की पासबुक की फोटो तथा दोनों की ताजा पासपोर्ट साइज फोटो इन सब की पांच पांच प्रतियां मूल कॉपी सहित आवेदन करते समय ली गई।

वधु के लिए समिति ने एक सोने की रखड़ी, सोने के कान के टोपिस, एक लोंग ,चांदी की पाजेब जोड़ी ,दो चुटकी दी गई साथ ही एक पलंग ,एक बाजोट,21बर्तन स्टील के एक स्टील की आलमारी, एक सिलाई मशीन ,एक बक्सा ,एक पंखा, एक रजाई गद्दा, दो तकिए ,दो कुर्सी, एक टेबल ,एक सिंगारदान एक बेडशीट विवाह समिति की ओर से दिए गए।

वधु के लिए एक बेस, ब्लाउज गन जोड़ा जुवाली सहित दूल्हे के लिए एक सफारी सूट का कपड़ा साफा मोझे बनियान समिति की ओर से दिया गया।

समिति द्वारा दिए गए आभूषण एवं पोशाक से ही पाणिग्रहण संस्कार किया गया दूल्हा दुल्हन के श्रृंगार की व्यवस्था अभिभावकों द्वारा की गई ।

वरमाला तोरण व बैंड बाजे की व्यवस्था समिति द्वारा की गई ।विवाह संपन्न होने के पश्चात दोनों पक्ष कारों द्वारा सामूहिक भोज पेरावणी ,जान जुआरी बाटका की रसम व दहेज लेने व देने की बात साबित होने पर ₹21000 की आर्थिक सहायता विवाह समिति को जमा करानी होगी।

राज्य सरकार द्वारा कन्यादान की राशि ₹10000 की एफडीआर व समिति द्वारा विवाह प्रमाण पत्र विवाह तिथि के दिन ही दिए गए तथा ₹5000 वधू के खाते में जमा कराए गए इस प्रकार कुल ₹15000 जमा दिए गए।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।