नई दिल्ली।

Goods and services tax (GST) Council की शनिवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई।

इस अहम बैठक में 33 चीजों में से 6 अति महत्वपूर्ण उत्पादों को 28 फीसदी की ऊंची स्लैब से नीचे लाने का फैसला लिया गया है।

28 फीसदी स्लैब में अब सिन गुड्स और लग्जरी प्रोडक्ट्स को ही रखा जाएगा। अधिकांश चीजों को अब जीएसटी के दायरे के कम स्लैब में लाया जा चुका है।

इससे पहले कई दिनों से जीएसटी कम करने को लेकर बातें हो रही थीं। आज ही जीएसटी कौंसिल की बैठक के बाद कई चीजों पर टैक्स कम होने की चर्चा थी।

अभी भी पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में शामिल करने को लेकर जनता की मांग पूरी नहीं हुई है। लोकसभा चुनाव से पहले इसको शामिल करने की संभावना है।