500 लोग भाग लेंगे आरएसएस के कार्यक्रम में

24
nationaldunia
- नेशनल दुनिया पर विज्ञापन देने के लिए संपर्क करें 9828999333-
dr. rajvendra chaudhary jaipur-hospital

नई दिल्ली।

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की 3 दिवसीय व्याख्यानमाला सोमवार से शुरु हो रही है। भारत का भविष्य नाम की इस श्रृंखला में देश के अलावा विदेश के लगभग 500 लोगों आने की संभावना है, जो तीन दिन में अलग-अलग विषयों पर विचार साझा करेंगे।

नई दिल्ली में विज्ञान भवन में हो रहे इस कार्यक्रम में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत न सिर्फ संबोधित करेंगे, बल्कि तीसरे और अंतिम दिन कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे सभी लोगों के सवालों का जवाब भी देंगे।

राहुल गांधी को नहीं मिला निमंत्रण
इससे पहले कार्यक्रम में आरएसएस द्वारा राहुल गांधी को न्यौता देने की भी खबरें आ रही थीं, लेकिन अभी तक मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को निमंत्रण नहीं भेजा गया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि “आरएसएस और भाजपा आमंत्रण भेजने को लेकर फर्जी खबर फैला रहे हैं, जैसे मानो यह किसी सम्मान का कोई मेडल हो। सुरजेवाला ने कहा है कि इस तरह का कोई आमंत्रण पत्र कांग्रेस पार्टी को नहीं मिला है और यह कोई सम्मान का पदक नहीं है।”

इनको दिया गया है निमंत्रण?
आरएसएस ने उत्तर प्रदेश के नेता अखिलेश यादव, मायावती, पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी, कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह सहित एआईडीएमके, डीएमके, बीजेडी और टीडीपी समेत देश की 40 राजनीतिक हस्तियों को आमंत्रित किया गया है। बताया गया है कि इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए कई मुस्लिम धर्मगुरुओं को भी बुलाया गया है। अखिलेश यादव ने आरएसएस के इस निमंत्रण को ठुकरा दिया है, वहीं सीपीएम के सीताराम येचुरी ने कहा कि उन्हें कोई निमंत्रण नहीं आया है।

राहुल गांधी ने क्या कहा था?
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हाल ही में संघ की तुलना इस्लामिक संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड से की थी। इस साल के जून में ही आरएसएस के कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी शामिल हुए थे। उनके यहां आने को लेकर काफी चर्चा हुई थी। संघ के प्रचार प्रमुख अरुण कुमार ने आरएसएस की तुलना इस्लामिक संगठन मुस्लिम ब्रदरहुड से करने के लिए राहुल गांधी पर पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस प्रमुख भारत को नहीं जानते, इसलिए वह इस संगठन को समझ नहीं सकते।