जयपुर।

7 दिसंबर को चुनाव पर 11 दिसंबर को परिणाम के बाद राजस्थान में नई सरकार का आज तब पूर्णता गठन हो गया, जब प्रदेश के मुखिया अशोक गहलोत ने अपने मंत्रिमंडल में 23 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलवाई।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के मंत्रिमंडल में 13 कैबिनेट मंत्री और 10 राज्य मंत्री बनाए गए हैं। सभी को आज राजभवन में राज्यपाल कल्याण सिंह ने पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।

राजस्थान विधानसभा में 200 विधायक हैं। ऐसे में संविधान के मुताबिक राज्य में कुल 30 मंत्री बनाए जा सकते हैं। प्रदेश सरकार में आज 23 मंत्रियों को शपथ दिलाने के बाद मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री समेत 25 मंत्री बने हैं।

माना जा रहा है कि लोकसभा चुनाव के मध्य नजर मंत्रिपरिषद में पांच स्थान खाली रखे गए हैं। आज बनाए गए मंत्रियों की परफारमेंस, रिपोर्ट कार्ड और प्रदेश में बदलने वाले सियासी समीकरण के बाद बचे हुए 5 पदों को भरा जाएगा।

डिपार्टमेंट अधिक होने के कारण चलते कम से कम चार पांच विभाग मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और इतनी ही उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के पास रहने की संभावना है। एक-दो को छोड़कर सभी मंत्रियों को एक से अधिक विभाग देना बेहद मुश्किल है। विभागों का बंटवारा आज शाम तक होने की संभावना है।

इसमें सर्वाधिक चर्चा पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी जोशी, परसराम मोरदिया और दीपेंद्र सिंह शेखावत का मंत्री नहीं बनाए जाने की रही। बताया जा रहा है कि इनमें से एक विधायक को विधानसभा अध्यक्ष और एक को उपाध्यक्ष बनाया जाएगा। इसके अलावा एक को सदन में मुख्य सचेतक बनाया जा सकता है।

यह बने हैं कैबिनेट मंत्री-

बीडी कल्ला, रघु शर्मा, शांति धारीवाल, लालचंद कटारिया, प्रमोद जैन भाया, परसादीलाल मीना को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है।

इसी तरह से विश्वेन्द्र सिंह, हरीश चौधरी, रमेश मीना, मास्टर भंवरलाल, प्रतापसिंह खाचरियावास, उदयलाल आंजना और सालेह मोहम्मद शामिल हैं।

इनको बनाया है राज्य मंत्री-

लक्ष्मणगढ़ से विधायक गोविंद सिंह डोटासरा, ममता भूपेश, अर्जुन बामणिया, भंवर सिंह भाटी, सुखराम बिश्नोई को राज्यमंत्री बनाया गया है।

इनके साथ ही अशोक चांदना, टीकाराम जुली, भजनलाल जाटव, राजेन्द्र यादव और सुभाष गर्ग भी सोमवार को राज्यमंत्री के पद की शपथ दिलाई गई है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।