kim jong

नई दिल्ली।
ट्रेन से 4500 किलोमीटर की 60 घंटे वाले मैराथन यात्रा, उसके साथ काफिला मंगलवार को वियतनाम पहुंचा है। आज इस यात्रा का पटाक्षेप तब होगा, जब अमेरिका और दक्षिण कोरिया का शीर्ष नेतृत्व परमाणु निस्त्रीकरण पर वार्ता करेगा।

भारत ने पाकिस्तान पर हमला किया तो पूरी दुनिया के सारे नेता हत्प्रभ रह गए। इससे एक ओर जहां पाकिस्तान बुरी तरह से दहशत में है, वहीं भारत में जश्न का माहौल है।

इस बीच दुनिया के दो बड़े नेताओं के बीच होने वाली वार्ता भी जैसे सुर्खियों से गायब हो गई है, जबकि इस​के लिए साउथ कोरिया के नेता ने 60 घंटे की यात्रा कर 4500 किलोमीटर दूर गए हैं।

आज अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और दक्षिण कोरिया के तानाशाह किम जोंग के बीच आज वियतनाम में शिखर वार्ता होगी। कल ही दोनों यहां पर पहुंचे हैं।

मजेदार बात यह है कि इस यात्रा के लिए किम जोंग ने ट्रेन से यात्रा की है। बख्तरबंद ट्रेन में तानाशाह पूरे 60 घंटे रहा है। हालांकि, उसके लिए इस दौरान पूरी सुख सुविधाएं थीं।

दोनों नेताओं के बीच दो दिवसीय यह शिखर वार्ता आज से शुरू होगी। इससे पहले भी दोनों नेता मिल चुके हैं। दोनों के बीच पहले बयानबाजी का वॉर हो चुका है।

असल में ट्रेन और 60 घंटे की यात्रा किम जोंग के लिए इसलिए चुनी गई थी, क्योंकि किम जोंग को हवाई जहाज में डर लगता है। ऐसे में जोंग ट्रेन से ही यात्रा करते हैं।