pm narendra modi chowkidar
pm narendra modi chowkidar

नई दिल्ली।

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आरोप प्रत्यारोप का दौर जारी है। इस बीच मोदी सरकार के पिछले 5 साल के कई आंकड़े सार्वजनिक हुए हैं।

जिनमें सबसे ज्यादा 8 करोड़ वो लोग लोग वापस मर गए हैं, जो कभी पैदा ही नहीं हुए थे और सरकार की फ्री योजनाओं का जम कर फायदा उठा रहे थे।

इस दौरान करीब तीन लाख कंपनियों को बंद किया गया है, जो केवल कुछ लोगों के द्वारा कुछ कमरों में चलाई जा रही थी।

इन कंपनियों के माध्यम से कालाधन का पैसा बाहर भेजा जाता था और वह एक नंबर करके वापस भारत में लाया जा रहा था।

इन्हीं 5 सालों में उद्योपतियों द्वारा लिए गए बैंकों के 3.5 लाख करोड़ रुपए भी वापस आए हैं, जो डूबत खाते में डाल दिए गए थे।

केंद्र की मोदी सरकार के द्वारा कानून बनाने के कारण देश का यह 3.5 लाख करोड़ पर वापस आया है।

इतना ही नहीं, डेढ़ लाख फर्जी मदरसे जो कागजों में ही चल रहे थे और कागजों में ही सरकार से सब्सिडी ले रहे थे, वह भी इन 5 वर्षों में बंद कर दिया गया है।

मोटे तौर पर देखा जाए तो 1 साल का करीब 1.80 लाख करोड़ रुपए फर्जी तरीके से इन लोगों के द्वारा सब्सिडी के रूप में ले जा रहे थे।

जिन उद्योगपतियों के द्वारा साल 2004 से लेकर 2014 के बीच बैंकों से पैसा लिया गया और विदेशों में भाग गए, उनके खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की जा रही है।

विजय माल्या नीरो मोदी समेत तमाम भगौडों के खिलाफ केंद्र सरकार सख्ती से पेश आ रही है।

विजय माल्या के द्वारा जो 9000 करोड़ रूपया लेकर डकार आ गया था, उसके बदले केंद्र सरकार कानून बनाकर दुनिया भर से 14000 करोड रुपए की वसूली कर चुकी है।

सर्वविदित है कि विजय माल्या इस कार्रवाई के कारण बिलबिला रहा है। वह आए दिन भारतीय अधिकारियों के सामने पैसा देने और उसकी संपत्ति छोड़ने के लिए गुहार लगा रहा है।