omar tarik
omar tarik

-स्ट्रेंजर में नजर आएंगे जिंदगी के अनुभव
जयपुर।
द स्क्रिबल्ड स्टोरीज पेज से मशहूर हुए ओमर तारिक अब कहानी संग्रह में जिंदगी के अनुभवों को पेश करेंगे।

छोटी सी उम्र में जिंदगी को अपने नजरिये से देखने वाले ओमर तारिक की नई किताब स्ट्रेंजर में छोटी कहानियों पर इनका काम इतना गहरा है कि जो कोई भी इससे गुजऱा हैए वह इस किताब से जुड़ाव महसूस करेगा।

ओमर ने बताया कि यह किताब सबके लिए एक रोलर कोस्टर राइड की तरह है। इस किताब में 9 कहानियां हैं जिसमें रोमांस, ब्रेकअप और जीवन के विकल्प और जिंदगी बदल देने वाले अनुभव हैं।

ओमार बताते हैं कि मैंने छोटी कहानियों पर काम करना 2016 में ही शुरू कर दिया था। मुझे इन्हें पब्लिश करने का कोई इरादा नहीं था। मैंने करीब-करीब 7 कहानियां लिखी और उन्हें अनगिनत पब्लिशिंग हाउस भेजी।

5 पब्लिशर्स से ठुकराए जाने के बाद मेरी उम्मीद पल भर के लिए टूट गई थी। पर फिर मेरे पब्लिशर ने मेरे पैल्नस् के बारे में सुना और मुझे पब्लिश करने में उन्होंने रूचि दिखाई।

मेरे एडीटर और मित्र मोहित ने सलाह दी कि सारी कहानियों का एक ही थीम रखना सही होगा। इस प्रकार स्ट्रेन्जर की शुरुआत हुई। कहानियों के विषय के अनुसार व्यवस्थित करने के बाद स्ट्रेइन्जर-वी मीट इन अ लाइफ की शुरुआत हुई।

कोलकाता में पढ़े-लिखे ओमर ने बताया कि मुझे लार्स केप्लर और उनकी रहस्यमय कथाओं को पढऩे का शौक लगा।

इन कथाओं का मुझपर अनोखा प्रभाव पड़ा है। कई बार उनकी लिखी हुई कथाओं को दोबारा लिखता हूं ताकि मैं उनकी तरह सोच सकू। उन्होंने मुझे काफी प्रेरित किया है।

स्ट्रेंजर की कहानी

इस किताब में कुल मिलाकर 7 कहानियां हैं जो एक ही विषय से जुड़ी हुई हैं। यहाँ रोमांस है, इरोटिका है, दिल टूट रहें है, विकल्प है और कई अजनबी जीवन को प्रभावित कर रहे हैं।

इन सभी का तानाबाना इनमें बुना गया है। कैसे घटनाओं की एक श्रृंखला अन्य अजनबियों को अव्यवस्थित कर सकती है। इसमें थ्रिल के साथ कई घटनाओं का समवेश है।

और हाँ, अंत में प्यार में विश्वासघात भी होगा। मेरा मानना है कि हर कहानी हमे हमारे समाज से जुड़ी एक संदेश देगी।

उपन्यास पर होगा अगला फोकस

ओमर ने बताया कि मेरे पास बहुत सारी योजनाएं हैं। द स्क्रिब्ल्ड स्टोरीज़ जल्द ही दो और सीरीज शुरू करने जा रही है।

इसके अलावा, मेरे पास पहले से ही एक फुल-लेंथ उपन्यास है, जिसका पहला ड्राफ्ट तैयार है। युवा लेखकों को संदेश देते हुए ओमर ने कहा कि लिखिये, खराब लिखिये और बहुत खराब लिखिये।

टूटी-फूटी कहानियां लिखिये पर लिखते रहिये। आप एक दिन मे पूर्ण नही बनेंगे। आप लिखेंगे, आप ही समीक्षा करेंगे।

आप ही सीखेंगे लेकिन कभी अपनी कला को खुद पर इतना हावी न होने दें की इसके आगे आपको कुछ न दिखे जो की सच नहीं है।

इस क्षेत्र में हमेशा कुछ न कुछ खीखने की गुंज़ाइश है। उन लोगों से प्रतिक्रिया लीजिए जो आपको सच्ची सलाह देना चाहते हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।