रामगोपाल जाट@जयपुर।

जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में पिछले गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले पर हुए फिदायीन हमले के बाद भारत के 45 जवान शहीद हो चुके हैं।

इस हमले के बाद भारत की तरफ से पाकिस्तान पर हमला, सर्जिकल स्ट्राइक और आतंकवादियों के ठिकानों पर बड़ी कार्रवाई जवाब देने की उम्मीद की जा रही थी, लेकिन अभी तक ऐसा कुछ हुआ नहीं है।

भारतीय सेना एक और जहां जम्मू-कश्मीर में विशेष अभियान चलाकर आतंकवादियों का सफाया करने में लगी हुई है, वहीं दूसरी तरफ कश्मीर में पत्थरबाजी करने वाले नौजवानों को आतंकवाद से दूर रहने के लिए सेना ने साफ तौर पर चेतावनी दे दी है।

-विज्ञापन -

सेना ने कहा है कि कश्मीर में माताएं आतंकवाद की राह पकड़ चुके अपने बच्चों को समझाएं और उनको सरेंडर कराएं, अब यदि किसी भी कश्मीरी के हाथ में पत्थर दिखा या आतंकवाद में लिप्त पाया गया तो वह सेना के निशाने पर होगा।

हालांकि उम्मीद के विपरीत अभी तक भारत की तरफ से पाकिस्तान या आतंकवाद के खिलाफ बड़ा एक्शन नहीं लिया गया है, लेकिन भारतीय सब्जी ने पाकिस्तान को धूल चटा दी है।

पुलवामा हमले के बाद भारत से जाने वाला टमाटर एकदम से लाल हो गया है। मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र समेत देश के कई इलाकों से किसानों ने पाकिस्तान को निर्यात किए जाने वाले टमाटर पर रोक लगा दी है।

किसानों का कहना है कि हम ऐसे देश को सब्जी नहीं खिला सकते, जो हमारे जवानों की जान लेने के लिए आतंकवाद को पालता है।

पाकिस्तान को पुलवामा हमले का जवाब दिया भारत के टमाटर ने, जानिए कैसे- 1

pakistani TV journalist Nayla inayat ने अपने ट्विटर अकाउंट पर इस बात की जानकारी देते हुए लिखा है कि लाहौर में टमाटर ₹180 किलो ग्राम बिक रहा है, जबकि पुलवामा हमले से पहले भाव इतने आसमान पर नहीं थे।

इससे साफ जाहिर हो गया है कि भारत द्वारा पाकिस्तान से एमएफएन का दर्जा छीनने और दो सौ पर्सेंट कस्टम ड्यूटी बढ़ाने के बाद अब आर्थिक रूप से पाकिस्तान की कड़ी परीक्षा शुरू हो चुकी है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कह चुके हैं कि हम पाकिस्तान को कई मोर्चों पर हराएंगे, जिनमें आर्थिक मोर्चा और विश्व से अलग-थलग करते हुए पाकिस्तान को अकेला करने की रणनीति सबसे अहम होगी।

गौरतलब यह है कि भारत पाकिस्तान को करीब 140 वस्तुओं का निर्यात करता है, जिनमें टमाटर भी एक है। पाकिस्तान से भारत में 19 चीजें आयात की जाती हैं।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।