nationaldunia

जयपुर।

राजस्थान में बीते 9 साल के दौरान 1455 लोगों की स्वाइन फ्लू के चलते मौत हो चुकी है। बता दें कि इस दौरान पूरे देश में हुए आतंकवादी बम धमाकों के कारण भी इतने लोगों की मौत नहीं हुई।

राजस्थान में नवगठित कांग्रेस सरकार के मुखिया अशोक गहलोत, उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा समेत पूरी ब्यूरोक्रेसी जिस रोग को नियंत्रित करने में लगी हुई है, उसी रोग की चपेट में ब्यूरोक्रेसी की मुखिया की पत्नी और सीनियर आईएएस अधिकारी भी आ गई हैं।

पिछले साल जिका वायरस के चलते राजस्थान के चिकित्सा विभाग की देश-दुनिया में काफी किरकिरी हुई थी। बड़ी मुश्किल से वायरस को कंट्रोल किया गया था।

-विज्ञापन -

राजस्थान में अब स्वाइन फ्लू बहुत तेजी से पैर पसार रहा है राज्य में बीते 5 दिन के दौरान 127 मरीज सामने आ चुके हैं। जिनमें से चार जनों की मौत भी हो चुकी है।

स्वाइन फ्लू की चपेट में पीडब्ल्यूडी में अतिरिक्त मुख्य सचिव सीनियर आईएएस वीणा गुप्ता भी आ चुकी हैं। वीणा गुप्ता पिछली सरकार में चिकित्सा विभाग में अतिरिक्त मुख्य सचिव रह चुकी हैं।

उपचार कर रहे चिकित्सकों का कहना है कि मुख्य सचिव डीबी गुप्ता की पत्नी आईएस वीनू गुप्ता को घर पर ही आराम करने की सलाह दी गई है। उनको चिकित्सकों की देखरेख में आइसोलेशन में रखा गया है।

आंकड़ों पर गौर करें तो वर्ष 2010 में 11 जने स्वाइन फ्लू से मरे। इसके बाद 2011 में 60, 2012 में 165, 2013 में 165, 2014 में 34, 2015 में 472, 2016 में 46, 2017 में 280 मरीज़ों की मौत हुई।

इसके बाद 2018 में 225 जनों की स्वाइन फ्लू से मौत हुई थी। अभी तक इस साल 5 दिन में राज्य में 127 रोगियों में 4 जनों की इस बीमारी के चलते जान जा चुकी है।

अधिक खबरों के लिए हमारी वेबसाइट www.nationaldunia.com पर विजिट करें। Facebook,Twitter पे फॉलो करें।