CR Choudhary Nagaur Lok Sabha Election Results
CR Choudhary Nagaur Lok Sabha Election Results

-नागौर से सी आर चौधरी का नाम पहली सूची से नदारद, भाजपा के स्थानीय पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों का विरोध, भाजपा के लिए गलफांस बनी हुई है नागौर सीट।

भाजपा ने प्रदेश की 25 सीटों में से 16 सीटों पर भले ही प्रत्याशियों की घोषणा कर दी हो, लेकिन जिन 9 सीटों पर अभी प्रत्य़ाशी घोषित नहीं किए हैं, उनमें सबसे ज्यादा भाजपा के लिए गलफांस बनी है नागौर लोकसभा सीट।

चूरू, नागौर, दौसा, भरतपुर, अलवर, डूंगरपुर, राजसमंद, जैसलमेर-बाड़मेर और करौली के टिकट घोषित करना बाकी है। इनमें सबसे ज्यादा पेचीदगियां नागौर, जैसलमेर-बाड़मेर और राजसमंद को माना जा रहा है।

नागौर लोकसभा सीट पर वर्तमान में केन्द्रीय मंत्री सीआर चौधरी सांसद है। सांसद सीआर चौधरी का जिले में इतना विरोध हो रहा है कि नागौर के पार्टी के जिला अध्यक्ष से लेकर मंड़ल, वर्तमान और पूर्व विधायक भी सांसद चौधरी के खिलाफ मौर्चा खोले हुए हैं। इधर, सीआर चौधरी के विरोध को देखते हुए पार्टी लगातार नागौर सीट पर मंथन कर रही है।

तीन केन्द्रीय मंत्रियों के खिलाफ पार्टी के नेताओं ने ही बजाय़ा विरोध का बिगुल

प्रदेश भाजपा की जिन 9 लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी घोषणा नहीं हुई है, वहां पार्टी के अन्दरखाने घमासान बना हुआ है। इन नौ सीटों में नागौर और जैसलमेर-बाड़मेर और राजसमंद की सीट पर सबसे ज्य़ादा घमासान मचा हुआ है।

नागौर से वर्तमान सांसद और केन्द्रीय मंत्री सी आर चौधरी को दुबारा नागौर के प्रत्याशी नहीं बनाने को लेकर विधानसभा चुनावों के परिणाम आने के बाद से ही विरोध शुरू हो गया था।

विरोध इतना बढ़ा कि नागौर भाजपा जिला अध्यक्ष, देहात अध्यक्ष ओपी मोदी, चार महामंत्री, चार मंड़ल अध्यक्षों के अलावा नागौर के आधा दर्जन पूर्व विधायक, जिसमें मानसिंह किनसरिया, श्रीराम भिंचर, हरिश कुमावत, विजय सिंह, मनोहर सिंह पूर्व मंत्री यूनुस खान, गजेन्द्र सिंह खींवसर विरोध में शामिल हैं।

नागौर से उठा विरोध जब भाजपा मुख्यालय तक पंहुचा और विरोधी खेमे ने न केवल भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मदनलाल सैनी, बल्कि चुनाव प्रभारी प्रकाश जावडेकर और भाजपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह, पूर्व मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे तक पंहुचा है।

नागौर के पार्टी के कई नेताओं ने विरोध का झंडा बुलंद किया है। इन्होंने पार्टी के आला नेताओं से गुहार लगाई की वर्तमान सांसद को फिर टिकट नहीं दी जाए। विरोध के स्वर को लेकर भाजपा प्रदेशाध्यक्ष मदन लाल सैनी ने कहा कि अभी एक लिस्ट ओर आना बाकी है। सैनी ने कहा कि पार्टी पूरी गणित देखकर टिकट घोषित करती है।

बहरहाल, भाजपा के आला नेताओं में नगौर की टिकट को लेकर लगातार मंथन का दौर जारी है। माना जा रहा है कि भाजपा आला कमान टिकिट की घोषणा करने से पहले नागौर की वर्तमान राजनीति और विरोध के उठ रहे स्वर को देखेंगे।

दिल्ली से सीधे नागौर में हुए सर्वे के आधार और गुणावगुण के आधार पर टिकट की घोषणा होगी, लेकिन जिस तरह से चर्चा चल रही है। उससे फिलहाल सीआर चौधरी के लिए एक दो दिन भारी नज़र आ रहे हैं।