36 C
Jaipur
सोमवार, सितम्बर 21, 2020

झुग्गियों के बच्चे जेएनयू छात्रों से पा रहे शिक्षा

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली, 13 सितंबर (आईएएनएस)। शिक्षा पर कोविड-19 लॉकडाउन का प्रभाव दिन-प्रतिदिन गंभीर होता जा रहा है और झुग्गी बस्तियों के बच्चों को सबसे अधिक नुकसान उठाना पड़ रहा है, क्योंकि स्कूल बंद हैं और कक्षाएं ऑनलाइन हो गई हैं। ऑनलाइन पढ़ाई तो उन्हीं बच्चों को नसीब है, जिनके परिवार कई स्मार्ट मोबाइल फोन हैं।
कोरोना के बीच उत्पन्न स्थिति ने कमजोर, वंचित तबके के बच्चों को दुख की स्थिति में छोड़ दिया है। हालांकि, जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के छात्रों के एक समूह ने ऐसे ही कुछ बच्चों की मदद करने का बीड़ा उठाया है। पिछले 11 दिनों से, जेएनयू के लगभग 15 छात्र नियमित रूप से मधुकर बस्ती का दौरा कर रहे हैं, जो मुनिरका इलाके में एक झुग्गी बस्ती है, और वहां 30 से अधिक बच्चों को पढ़ाते हैं। जेएनयू की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) की इकाई बस्ती की पाठशाला नाम की इस पहल की अगुवाई कर रही है।

एबीवीपी-जेएनयू के अध्यक्ष शिवम चौरसिया ने कहा, हमने मधुकर बस्ती के स्कूली बच्चों को बिना किसी बाधा के शिक्षा प्रदान करने के लिए बस्ती की पाठशाला कार्यक्रम की शुरुआत की। हमारे स्वयंसेवक हर शाम जाते हैं और झुग्गी बस्ती के 30 से अधिक बच्चों को पढ़ाते हैं, जिनकी पढ़ाई इस वजह से बंद हो गई थी, क्योंकि वे पढ़ाई जारी रखने के लिए मोबाइल फोन नहीं खरीद सकते थे।

चौरसिया ने कहा कि स्वयंसेवक छात्र गणित, विज्ञान, अंग्रेजी और अन्य विषयों को पढ़ाते हैं। स्वयंसेवकों ने कहा कि उन्होंने बस्ती में एक खुली जगह में एक व्हाइटबोर्ड रखा है, जहां वे प्रत्येक शाम को 5 से 6 बजे के बीच बच्चों को कक्षाए देते हैं। इसके अलावा, उन्होंने इन बच्चों को अध्ययन सामग्री भी दी।

झुग्गी के बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाने वाली एक स्वयंसेवक मीनाक्षी चौधरी ने कहा, बच्चों को अपने हाथों में नई किताबें, नोटबुक, पेंसिल के साथ हमारी कक्षाओं में भाग लेने के दौरान बहुत अच्छा लगता है। उन्होंने हमें बताया कि वे इसे बहुत याद कर रहे थे, क्योंकि यह उन्हें अपने दोस्तों से मिलने और एक साथ पढ़ने का मौका देता है। हमने उनकी प्रतिक्रिया के बाद प्रोत्साहित महसूस किया। मीनाक्षी फारसी भाषा में पीएचडी कर रही हैं।

बस्ती की पाठशाला कार्यक्रम के संयोजक प्रणीत दुहोलिया ने कहा कि स्वयंसेवक इन बच्चों के जीवन में एक आवश्यक भूमिका निभाकर खुश हैं। उन्होंने कहा, मधुकर बस्ती के बच्चे हमेशा अपनी जगह पर हमें देखकर खुश होते हैं और हम भी उनके जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने को लेकर खुश होते हैं। हमारे शिक्षण कार्यक्रम को स्वयंसेवकों की सक्रिय भागीदारी और एबीवीपी-जेएनयू की एक टीम द्वारा संभव बनाया गया है। हम भविष्य में भी इस तरह की गतिविधियों को आगे बढ़ाते रहेंगे, क्योंकि यह बहुत अधिक संतुष्टि देता है।

–आईएएनएस

वीएवी/एसजीके

National Dunia से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर लाइक और Twitter, YouTube पर फॉलो करें.

- Advertisement -
झुग्गियों के बच्चे जेएनयू छात्रों से पा रहे शिक्षा 2
Ram Gopal Jathttps://nationaldunia.com
नेशनल दुनिआ संपादक .

Latest news

कम नमूनों की जांच के बाद तेलंगाना में कोरोना के मामलोंे में गिरावट

हैदराबाद, 21 सितम्बर (आईएएनएस)। तेलंगाना में कोरोनावायरस के मामलों में कमी आई है। राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों ने सोमवार को बताया कि पिछले...
- Advertisement -

आईएसएल : बोस्निया के सेंट्रल डिफेंडर सिपोविच पहुंचे चेन्नइयन एफसी

चेन्नई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के क्लब चेन्नइयन एफसी ने बोस्नीया हर्जेगेविना के सेंटर बैक इनेस सिपोविच के साथ 2020-21 सीजन...

बुरी पटकथा पर काम कर आगे नहीं बढ़ा जा सकता : सचिन खेडेकर

मुंबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। अभिनेता सचिन खेडेकर का मानना है कि अभिनेता के लिए अपने अभिनय कौशल का बेहतरीन प्रदर्शन करने के लिए एक...

अनुभव सिन्हा ने अनुराग कश्यप के समर्थन में आईं महिलाओं को सराहा

मुंबई, 21 सितंबर (आईएएनएस)। फिल्म निर्माता अनुराग कश्यप पर अभिनेत्री पायल घोष द्वारा लगाए गए यौन शोषण के आरोप के बाद कई महिलाएं कश्यप...

Related news

केंद्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार खोले जाएंगे स्कूल- बेसिक शिक्षा मंत्री

इटावा, 18 सितंबर (आईएएनएस)। उत्तर प्रदेश के बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ़ सतीश द्विवेदी ने कोरोनावायरस के कारण बंद चल रहे स्कूल खोले जाने की...

अलवर में 5-6 जनों ने बलात्कार किया, फिर मामी के साथ भांजे को शारिरीक सम्बन्ध बनवा वीडियो वायरल किया

अलवर। लोकसभा चुनाव के दरमियान अलवर में थानागाजी क्षेत्र में एक विवाहित लड़की के साथ गैंगरेप करने और उसका वीडियो वायरल करने...

भारत में 18 से 24 वर्ष की 37% महिलाएं रखती हैं लंबे समय तक सैक्स सम्बंध

-भारत में 19% महिलाओं को स्मार्टफोन पर रहती हैं पार्टनर की तलाश, देश की 62% महिलाएं कर रहीं ये काम।

पिंकी चौधरी भागने वाली लड़कियों की रोल मॉडल बनी, चार लड़कियों ने ली प्रेरणा और प्रेमियों के साथ भाग गईं

बाड़मेर/टोंक। पिछले महीने बाड़मेर के समदड़ी पंचायत समिति की प्रधान पिंकी चौधरी के घर से भागने और आपने प्रेमी अशोक चौधरी के...
- Advertisement -